राज कुंद्रा के पोर्नोग्राफिक वीडियो बनाने और फैलाने के पीछे की पूरी कहानी!

By — श्वेतांकshwetank.shekhar@lallantop.com 

19 जुलाई को मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बिज़नेसमैन राज कुंद्रा को पूछताछ के लिए बुलाया. जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. उन्हें पोर्नोग्राफिक फिल्में प्रोड्यूस करने और उसे कई सोशल मीडिया ऐप्स पर अपलोड करने मामले में गिरफ्तार किया गया है. मुंबई पुलिस कमिश्नर ने कहा कि पोर्नोग्राफिक कॉन्टेंट क्रिएट और पब्लिश करने के मामले में राज कुंद्रा मुख्य साज़िशकर्ता हैं. मुंबई पुलिस के पास इसके पर्याप्त सबूत उपलब्ध हैं. पुलिस इस मामले की तफ्तीश कर रही है.

कहां और कैसे बनता था ये पोर्नोग्राफिक कॉन्टेंट?

4 फरवरी, 2021 को मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच के पास पोर्नोग्राफिक कॉन्टेंट बनाए और उसे फैलाए जाने का मामला दर्ज किया गया था. तब से पुलिस इस मामले पर पैनी नज़र बनाए हुए थी. पिछले दिनों मुंबई पुलिस को एक टिप मिली कि मढ़ आइलैंड इलाके के बंगले में पॉर्न फिल्म की शूटिंग हो रही है. इंस्पेक्टर केदार पवार और असिस्टेंट इंस्पेक्टर लक्ष्मीकांत सालुंखे ने अपनी टीम के साथ इस बंगले पर छापा मारा. उनकी टिप सही निकली. वहां ओटीटी प्लैटफॉर्म के लिए शॉर्ट फिल्म बनाने के बहाने पॉर्न फिल्में शूट करने वाला गिरोह पकड़ा गया था. इस दौरान एक्टर गहना वशिष्ठ के साथ कुछ और लोगों को गिरफ्तार किया गया था. ये लोग लाइटमैन, डायलॉग राइटर, ग्राफिक्स और कैमरा का काम संभालते थे.

प्रति वीडियो 2-3 लाख रुपए कमाते थे आरोपी

कई रिपोर्ट्स में ये भी बताया कि ये लोग लड़कियों को ओटीटी प्लैटफॉर्म के लिए बन रही फिल्में और वेब सीरीज़ में काम दिलाने का वादा करते थे. उनके साथ प्रॉपर अग्रीमेंट साइन करके फिल्म सेट पर लाया जाता था. जो कि अधिकतर मौकों पर मढ़  आइलैंड में किराए का एक बंगला होता था. सेट पर आते ही स्क्रिप्ट-डायलॉग्स-सीन्स बदल दिए जाते. लड़कियों से एक्सपोज़ करने को कहा जाता. जब लड़कियां इसके लिए मना करतीं, तो उनसे शूटिंग में हुआ सारा खर्चा मांगा जाता था. मिड-डे में छपी खबर के मुताबिक इन पॉर्नोग्राफिक वीडियोज़ की मदद से आरोपी 2-3 लाख रुपए प्रति वीडियो कमाते थे. वहीं लड़कियों को हर वीडियो के बदले 20-25 हज़ार रुपए दिए जाते थे.

इस सब में राज कुंद्रा का क्या रोल है?

जब पुलिस फरवरी में दर्ज किए गए केस के सिलसिले में छानबीन कर रही थी, तब उमेश कामत नाम का शख्स उनके हाथ आया. उमेश ने पुलिस को बताया कि वो राज कुंद्रा के साथ काम करता था. ये पहली बार था, जब इस केस में राज कुंद्रा का नाम सामने आया. मगर पुलिस के पास राज के खिलाफ कोई सबूत नहीं था. जांच के दौरान पता चला उमेश राज कुंद्रा के ऑफिस में बैठकर वी-ट्रांसफर से फाइल्स बाहर भेजता था. पॉर्न फिल्मों की शूटिंग के बाद वीडियो को एक यूके बेस्ड कंपनी को भेजा जाता था. वो कंपनी उन वीडियोज़ को कई ऐप्स और व्यूइंग प्लैटफॉर्म पर अपलोड करती थी. ये सारे पॉर्न क्लिप्स तमाम स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म पर सब्सक्रिप्शन फीस के बाद दर्शकों को मुहैया करवाए जाते थे. इंडिया में पॉर्न क्लिप शूट करके विदेश भेजने वाला झोल-झमाटा किया जाता था क्योंकि इंडिया में पॉर्नोग्रफी इललीगल है.

किन-किन स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म्स के मालिक हैं राज कुंद्रा?

राज कुंद्रा खुद JL स्ट्रीम नाम के एक स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म के मालिक हैं. इस कंपनी का इंडियन प्रीमियर लीग की टीम राजस्थान रॉयल्स में बड़ा स्टेक है. हालांकि पोर्नोग्राफिक वीडियोज़ इस ऐप पर अपलोड होते थे या नहीं, ये बात क्लियर नहीं हो पाई. इसके बाद राज कुंद्रा ने बॉली फेम नाम का एक ऐप्लिकेशन लॉन्च किया. इसके डेस्क्रिप्शन में बताया गया कि इस ऐप पर सेक्शुअल थीम से जुड़ी चीज़ें दिखाई जाएंगी. बहरहाल, राज कुंद्रा अपने बेटे वियान के नाम पर वियान इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड नाम की कंपनी चलाते हैं. इन ऐप्स के पीछे भी यही कंपनी है.

राज के स्ट्रीमिंग प्लैफॉर्म बॉली फेम का स्क्रीनग्रैब.
राज के स्ट्रीमिंग प्लैफॉर्म बॉली फेम का स्क्रीनग्रैब.
बॉली फेम के डेस्क्रिप्शन में आप लाल घेरे में सेक्शुअल थीम्स और वियान इंडस्ट्रीज़ का नाम पढ़ सकते हैं.
बॉली फेम के डेस्क्रिप्शन में आप लाल घेरे में सेक्शुअल थीम्स और वियान इंडस्ट्रीज़ का नाम पढ़ सकते हैं.

खैर, मंगलवार की सुबह राज कुंद्रा को मुंबई की एस्प्लेनेड कोर्ट ने 4 दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया है. राज कुंद्रा के साथ रायन थॉर्प भी 23 अगस्त तक पुलिस कस्टडी में रहेंगे.

Thanks – https://www.thelallantop.com/

(Visited 1 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *