Category: राष्ट्रीय

कॉरपोरेट फंडिंग के आसरे महंगे होते लोकतंत्र में जनता कहीं नहीं

by — पुण्य प्रसून बाजपेयी तो कॉरपोरेट देश चलाता है या कॉरपोरेट से सांठगांठ के बगैर देश चल...

Read More

प्रधानमंत्री जी आप भारत को विश्व गुरु बना रहे हैं या बेवकूफ बना रहे हैं ?

by — रविश कुमार स्वीस नेशनल बैंक ने अपनी सालाना रिपोर्ट में बताया है कि 2017 में उसके यहां...

Read More

मज़हबी गतिविधियो में कम और सेकुलर गतिविधियों में अधिक पैसा खर्च करे मुसलमान !

सिकंदरहयात 26 जनवरी को एक रिश्तेदार आये हुए थे वेस्ट यु पि के रहने वाले , सरकारी कर्मचारी समाज में...

Read More

70 साल के लोकतंत्र का सबसे खराब समय… न्याय की अंतिम आस अब न्यायालय नहीं, मीडिया!

अयोध्या प्रसाद ‘भारती’ क्या अब भी कोई शक रह गया है कि भारत आजादी के बाद के सबसे खराब दौर से गुजर...

Read More

बीमार अर्थव्यवस्था के लिए नाकाम डॉक्टर साबित हुए हैं मोदी-जेटली

अब यह किसी से छिपी हुई बात नहीं है कि भारत की अर्थ-व्यवस्था की हालत खस्ता है। आंकड़ों की बाजीगरी...

Read More
Loading