Author: admin

आदमी के कब्रिस्तान / श्मशान स्थल की तरह अंतरिक्ष यानों का भी कब्रिस्तान है पृथ्वी पर!

अंतरिक्ष से पृथ्वी पर आए अंतरिक्ष यानों और उपग्रहों को इसी कब्रिस्तान में गिराने की कोशिश की जाती है लव कुमार सिंह जिस प्रकार मनुष्य की मृत्यु के बाद उसकी देह को जलाने या दफनाने के लिए श्मशान घाट और कब्रिस्तान होते हैं, उसी प्रकार दुनिया में एक जगह पर अंतरिक्ष यानों का भी कब्रिस्तान मौजूद है। इस कब्रिस्तान में अभी तक करीब 300 अंतरिक्ष यानों को दफनाया जा चुका है। अभी 3-4 अप्रैल 2018 को अंतरिक्ष से पृथ्वी पर गिरा चीन का अंतरिक्ष स्टेशन ‘तियातोंग’ भी इसी कब्रिस्तान में आकर गिरा था। अंतरिक्ष यानों के इस कब्रिस्तान का...

Read More

अमित शाह की बौखलाहट !

by — मोहम्मद जाहिद अमित शाह के व्यवहार और भाषा से यह स्पष्ट हो रहा है कि भाजपा कर्नाटक चुनाव हारने जा रही है। दरअसल भाजपा के केन्द्रीय मंत्रियों की लफ्फाजी और धुर्त राजनैतिक बयान वहाँ की जनता भाषा के कारण समझ ही नहीं पा रही है , ऊपर से जो ट्रान्सलेटर हैं वह भाजपा के मंच से अमित शाह की मौजूदगी में भाजपा और मोदी को कभी विनासकारी बता रहे हैं तो कभी भ्रष्टाचारी बता रहे हैं। अमित शाह खुद येदुरप्पा की मौजूदगी में येदुरप्पा को भारत का सबसे भ्रष्ट मुख्यमंत्री घोषित कर चुके हैं। जैसे जैसे चुनाव...

Read More

पुण्यतिथि विशेष: पढ़ें मनोहर श्याम जोशी पर लिखी जा रही किताब का अंश

आज कथाकार, पत्रकार, टीवी और फिल्म लेखक मनोहर श्याम जोशी की पुण्यतिथि है। पढ़ें लेखक प्रभात रंजन द्वारा उनपर लिखी जा रही किताब का एक अंश। प्रभात रंजन आखिरकार उनके (मनोहर श्याम जोशी) घर बेतकल्लुफी से आने जाने का सिलसिला शुरू हो गया और इसमें बड़ी भूमिका अमेरिकन सेंटर की थी। हुआ यों कि ‘हमजाद’ उपन्यास को उत्तर आधुनिक उपन्यास लिखने के बाद और एक सरकारी पत्रिका में उसके मय मानदेय प्रकाशन के बाद मैं कुछ जोश में आ गया था। इस बात का मलाल जरूर था कि ‘हंस’, ‘इण्डिया टुडे’ या किसी अन्य मुख्यधारा की पत्रिका में उस...

Read More

कितना सच है बहुसंख्यक भारतीयों के वेजीटेरियन होने का दावा?

सौतिक बिस्वास, बीबीसी संवाददाता भारत को लेकर सबसे बड़ी ग़लतफ़हमी ये है कि यहां के ज़्यादातर लोग शाकाहारी हैं. लेकिन हक़ीकत इससे अलग है. इससे पहले ‘सतही’ अनुमान बताते रहे हैं कि एक-तिहाई से ज़्यादा भारतीय शाकाहारी खाना खाते हैं. अगर आप सरकार द्वारा करवाए गए तीन बड़े सर्वे को आधार मानें तो 23% से 37% भारतीय शाकाहारी हैं. मगर ये आंकड़े ख़ुद में कुछ साबित नहीं करते. लेकिन अमरीका में रहने वाले मानवविज्ञानी बालमुरली नटराजन और भारत में रहने वाले अर्थशास्त्री सूरज जैकब द्वारा किया गया रिसर्च बताता है कि “सांस्कृतिक और राजनीतिक दबाव” के कारण ऊपर दिए...

Read More

स्टारडम, तीन आशिक़ और तन्हाई में मौत…कहानी परवीन बाबी की

by – प्रदीप कुमार, बीबीसी संवाददाता परवीन बाबी सिनेमाई पर्दे पर वह सबकुछ 70 के दशक में कर रही थीं, जो अपनी चाहत, आधुनिकता और आत्म निर्भरता के नाम पर महिलाएं आज करना चाहती हैं. यक़ीन ना हो तो दीवार का वो दृश्य याद कीजिए जिसमें अमिताभ एक बियर बार में बैठे हैं और वहां उनको अकेला देखकर परवीन बाबी पहुंच जाती हैं और बिना जान पहचान के बातचीत शुरू करती हैं. एक हाथ में सिगरेट और दूसरे में शराब का प्याला. एकदम कॉन्फ़िडेंट और स्कर्ट का डिज़ाइन ऐसा कि टांगें बाहर झांकती नजर आती हैं. ये तो महज़...

Read More