Author: admin

पुरुषो की मानसिकता पे चोट करती एक कविता!

अफ़ज़ल ख़ान पुरुषो के मानसिकता पे चोट करती उर्दू की मशहूर कवित्री आज़रा अब्बास की एक नज्म आप सभी के लिये—– गरूर- ( घमंड ) अगर तुम मुझे एक बुर्का पहना कर मुझे ढाँपना चाहो तो क्या मेरी छातियों का गरूर तुम्हारी आँखों से छुप जाएगा अगर तुम मुझे दो बुर्के पहना दो यह गरूर फिर भी तुम्हारी नज़रों से छुप नहीं सकेगा चलो पहनते जाओ मुझे नीचे से उपर कई लबादे छोड़ दो मेरी आँखें केवल देखने के लिए कि तुम्हारी आँखें अब कया दीख रही हैं मुझे विश्वास है तुम मेरी छातियों के के गरूर को दूंढ़...

Read More

एमटीवी से मक्का तक

अफ़ज़ल ख़ान एमटीवी से मक्का तक ” एक किताब है जिस को इमरान खान की पूर्व प्रेमिका और नौ मुस्लिम महिला क्रिस्टीना बेकर ने लिखी है – क्रिस्टीना बेकर एमटीवी की पहली जर्मन एंकर थी – इमरान खान के प्यार में गिरफ्तार हुई .मुसलमान हुई लेकिन मंजिल फिर भी हाथ नहीं आया .हालांके क्रिस्टीना ने साफ लिखा है के इमरान ख़ान की मुहब्बत या शादी के लालच से इस्लाम क़ाबुल नही के बल्के उन्हे इस्लाम मे बहुत अच्छाया देखी इस लिये इस्लाम क़ाबुल की.क्रिस्टीना ने 1995 मे इस्लाम क़ाबुल किया, एक पब्लिशर के आग्रह पे उन्हो ने अपनी AUTOBIOGRAPHY...

Read More

टीपू सुल्तान की राम नम वाली अंगूठी नीलाम !

अफ़ज़ल ख़ान बीबीसी न्यूज की खबर के मुताबिक मैसूर के शासक टीपू सुल्तान की अंगूठी जिस पर राम लिखा था उस की नीलामी हो गयी है., इस अंगूठी पर देवनागरी लिपि में भगवान राम का नाम लिखा है। अपनी अनुमानित कीमत से 10 गुना से भी अधिक पर करीब 14,287,665 रुपये में इसकी नीलामी हुई। टीपू सुल्तान को मेसूर के शेर के नाम से जाना जाता था, अंग्रेज़ उसे बिर्टिश साम्राज्य के रुकावट के लिये सब से बड़ा खतरा मान रहा था, इसी लिये एक साजिश के तहत टीपू सुल्तान को युद्ध के दौरान धोखे से मारा गया. टीपू...

Read More

मो रफी: फिल्म संगीत का ध्रुवतारा

सैयद एस. तौहीद बचपन के दिनों में संगीत जुनून पर चर्चा करते हुए रफ़ी साहेब ने फ़कीर औरएकतारा की बात कही थी. उन दिनों वह एकतारा लेकर चलने वाले फ़कीर के फ़न सेबहुत प्रभावित रहे, फ़कीर अक्सर एकतारा पर कुछ गाते हुए दूर-दूर तक चलेजाते हैं. जिस किसी ने फ़कीर को गाते सुना होगा,वह जानते हैं किरफ़ी साहेब की दीवानगी यूं ही नही थी . बचपन में फ़कीर के जुनून को सलाम करते हुएबालक रफ़ी उससे सीख लेकर गायकी करते थे. यह प्रयास आने वालेस्वर्णिम भविष्य संकेत के रूप मे देखा जा सकता है . जब लाहौर पहुंचे तो...

Read More

कश्मीरी पंडितों की बदहाली का राजनीतिकरण

राम पुनियानी राजनीति एक अजब-गजब खेल है। इसके खिलाड़ी वोट कबाड़ने के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते हैं। इन खेलों से हमें संबंधित खिलाड़ी की राजनैतिक विचारधारा का पता तो चलता ही है, इससे हमें यह भी समझ में आता है कि इस खेल में किस तरह घटनाओं को तोड़ा-मरोड़ा जाता है और एक ही घटना की किस तरह परस्पर विरोधाभासी व्याख्याएँ की जाती हैं। कश्मीरी पंडितों के मामले में भी ऐसा ही कुछ हो रहा है। अपने चुनाव अभियान के दौरान, भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने कई ऐसी बातें कहीं जो या...

Read More