Author: admin

15वीं लोकसभा, अब तक का सबसे ख़राब प्रदर्शन ( K.D.Singh)

अनिल यादव जो लोकसभा देश के विकास में एक अहम् भूमिका निभाती है, जनप्रतिनिधियों द्वारा जहां देश हित के कार्यों को अंजाम दिया जाता है, जो लोकतंत्र की गरिमा स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद से बनाए हुए है. वो लोकसभा जहां जनता के प्रतिनिधि बैठकर देश के लिए कानूनी का निर्माण करते हैं, कुछ पुराने कानूनों में संशोधन किया जाता है. देश के हित में चर्चाएं की जाती हैं, अगर वहीँ हंगामे और दलों के झगड़े होते रहे तो कैसे देश के हित में कार्य हो सकेंगे? कैसे जनता का भला हो सकेगा? अगर इस ओर गहराई से देखा जाए...

Read More

भारतीय और दुनिया के मुस्लिम मिथक और सच्चाई

  सिकंदर हयात भारत में कुछ लोग ये आशंका जाहिर करने लगे हे की भारत और सारी दुनिया के मुस्लिम आतंकवाद और या कट्टरपंथ के ढके छुपे समर्थक हे खासतोर पर भारतीय मुस्लिमो पर ये आरोप लगता हे की वो पाकिस्तान के पर्ती कोई नरम रुख रखते हे आतंकवाद या अतिवाद की खुल कर निंदा नहीं करते हे वेगारह वेगारह .खासतोर पर आतंकवादी कार्यवहियो के बाद ये बहस बहुत बढ जाती हे कुछ लेखक या लोगो की मानसिकता ये हे की इनकी नज़र में भारत और बाकि दुनिया के सारे मुसलमान तो शायद बुरे हे जो सामान्य व्यक्ति की...

Read More

कश्मीर समस्या का सच !

अफ़ज़ल ख़ान अविभाजित भारत 1946 ई.मे अंग्रेजों द्वारा पेशकश कैबिनेट मिशन प्लान के तहत कांग्रेस और मुस्लिम लीग की गठबंधन सरकार बनाए जाने पर दोनों पक्षों में सहमति हो गई. कांग्रेस की मंजूरी के बावजूद पंडित नेहरू ने इस योजना को खारिज कर भारतीय विभाजन का रास्ता खोला. नेहरू ने ऐसा क्यों किया? इसकी सबसे बड़ी वजह नेहरू सत्ता मे भागीदारी नही चाहते थे और जो दूसरी वजह सामने आती है वह यह है कि नेहरू कृषि सुधार के माध्यम से हिंदुस्तान से जागीरदार प्रणाली का अंत चाहता था. लेकिन जमींदारों पे शामिल मुस्लिम लीग को यह मंजूर नहीं...

Read More

मोदी के तीन इक्के हर दाग धो देंगे !

पुण्य प्रसून बाजपेयी मोदी के पीएम बनने के रास्ते में दलित कार्ड कैसे सीढ़ी का काम कर सकता है। इसके लिये बीजेपी को लेकर देश के मौजूदा हालात और दलित वोट बैंक को लेकर बीजेपी की कुलबुलाहट को को समझना जरुरी है। अभी तक बीजेपी को धर्म के आधार पर वोट बैंक बांटने वाला माना गया। जो यह मिथ इस तिकड़ी के आसरे तोड़ा जा सकता है। बीजेपी को मुस्लिम वोट बैंक के सामानांतर दलित वोट बैंक चाहिये। क्योंकि देश के कुल वोटों का 17 फीसदी दलित समाज से जुड़ा है। दलित वोटरों के 50 फीसदी वोट क्षेत्रीय दलों...

Read More

संघी विचारधारा और पीएम की कुर्सी के बीच झूलते मोदी

अफ़ज़ल ख़ान आज कल मुस्लिम उलेमाओ द्वारा एक दूसरे को काफ़िर का फ़तवा देने का रिवाज़ है खास तौर से पाकिस्तान और मुस्लिम देशो मे जो के एक चिंता का विषय है. अभी जल्द ही कार्टून चॅनेल को भी हरम करार दिया गया है.यही उलेमा दुनिया के हर अविष्कार को हरम क़रार देते है, पेप्सी पीते है मगर उस को भी हरम बताते है. दूसरे को काफ़िर तो कहते ही है साथ मे जो मुसलमान उन के अक़ीदा का नही है उसे भी काफ़िर कह देते है. खैर मे पाकिस्तान के एक मशहूर शाएर सुलेमान हैदर की एक कविता...

Read More