salman-khanबेशक आप कह सकते हैं कि अभिनेता सलमान खान की शादी कोई सार्वजनिक महत्व का विषय नहीं है जिस पर चर्चा की जाए, लेकिन वास्तविकता यह भी है कि जब भी ऐसे लोगों की शादी होती है तो हर आम और खास व्यक्ति उसे रुचि लेकर पढ़ता और टीवी पर देखता है। बहरहाल, सलमान की शादी भले ही सार्वजनिक महत्व का विषय न हो, मगर शादी जरूर अपने आप में बिना शक एक महत्व का विषय है, इसलिए यहां हम सलमान के बहाने शादी की चर्चा कर रहे हैं और यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर कैसे कुछ लोग योग्य वर, वधू होते हुए भी कुंआरे रह जाते हैं।

सलमान इस साल 49 साल के हो रहे हैं। उनकी शादी को लेकर अनेक वर्षों से चर्चाएं होती रही हैं और हो रही हैं, लेकिन फिलहाल वह कुंआरे ही हैं। एक साल बाद वे 50 साल के हो जाएंगे। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या वे भविष्य में शादी करेंगे या जीवन भर कुंआरे ही रहेंगे?

यदि सलमान के विषय में मनोवैज्ञानिक, पारिवारिक, सामाजिक और आर्थिक दृष्टि से विचार किया जाए तो कई प्रकार की संभावनाएं और उनके स्पष्ट कारण नजर आते हैं। सबसे बड़ी संभावना यह है कि अगर सलमान खान के जीवन में कोई बहुत नाटकीय मोड़ नहीं आया तो उनकी शादी अब मुश्किल ही नजर आती है और यह इसलिए नहीं है कि उन्हें लड़की नहीं मिलेगी, बल्कि यह उनका अपना ही फैसला होगा। एक नाटकीय मोड़ यह हो सकता है कि सलमान की फिल्में पिटने लग जाएं और तब थक-हारकर वह शादी करने की सोचने लगें। दूसरा नाटकीय मोड़ यह हो सकता है कि सलमान को उन पर चल रहे मुकदमों में जेल हो जाए और उनका कॅरियर ठहर जाए। इसके बाद जेल से लौटकर वह शादी करने का फैसला कर सकते हैं।

शादी मुख्यतः तीन कारणों से की जाती है। एक- संतान की उत्पत्ति, दो- शारीरिक सुख की लालसा और तीन- पारिवारिक सुख की चाह। सलमान के मामले में इन तीनों कारणों की मौजूदा स्थितियां भी गौर करने लायक है। ये स्थितियां और कुछ अन्य उल्लेखनीय तथ्य इस प्रकार हैंः-

1- सलमान को बिना शादी के भी शारीरिक सुख की कमी नहीं रही है और न इस समय है। संगीता बिजलानी, सोमी अली, ऐश्वर्य राय, कैट्रीना कैफ, जरीन खान, फारिया आलम आदि तो ऐसे नाम हैं जिन्हें बाकायदा लोग उनकी प्रेमिका के रूप में जानते थे। इसके अलावा अन्य नामी अभिनेत्रियां और फिल्मों में नाम कमाने की इच्छुक लड़कियां उन पर कुर्बान होने के लिए तैयार रहती हैं। आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जो हीरो बिना पैसा लिए किसी आयोजन में जाने को तैयार न होता हो, वह अगर अपनी मात्र एक फिल्म की हीरोइन (असिन और जैकलीन फर्नाडीज) को मुफ्त में बंगला तक दे डाले तो इसके क्या मायने हो सकते हैं।

2- शारीरिक सुख के बहुत ज्यादा विकल्प भी सलमान की शादी में बाधक हैं। संभवतः इन विकल्पों की मौजूदगी में ही वह तय नहीं कर पाते हैं कि शादी की जरूरत है भी या नहीं।

3- सलमान को फिलहाल पारिवारिक सुख की भी कमी नहीं है। पिता और दोनों माताएं मौजूद हैं। साथ में उनके भाइयों के बच्चे अभी छोटे हैं, जिनसे वह अपना दिल बहला सकते हैं। दो बहनें, दो भाई और भाभियां परिजन होने के नाते तो उन्हें चाहते ही हैं, व्यावसायिक रूप से भी दोनों भाइयों के लिए लाभकारी होने के कारण वे सलमान पर जान छिड़कते हैं। हो सकता है कि भाइयों के बच्चे जब बड़े हो जाएं, हीरो के रूप में रुतबा कुछ घट जाए और माता-पिता साथ में न हों तो सलमान को अकेलापन महसूस हो, मगर फिलहाल ऐसी स्थिति बिल्कुल नहीं है, जिसकी वजह से सलमान को शादी की जरूरत नहीं महसूस होती होगी। देश और विदेश में खुद के भारी संख्या में फैन होने का अहसास भी उन्हें अकेलापन नहीं महसूस होने देता होगा।

4- शादी करने के लिए कम से कम इस समय परिवार की तरफ से भी बहुत ज्यादा दबाव नहीं है। शुरू में काफी दबाव था, मगर अब सब कुछ उन पर ही छोड़ दिया गया है। परिजनों के ज्यादा दबाव न डालने के पीछे जानकार लोग एक कारण यह मान रहे हैं कि परिजनों को लगता है कि जब सब कुछ ठीकठाक चल रहा है। पूरा परिवार आनंद से है, माता-पिता को सलमान से आदर-प्यार मिल रहा है, भाई-बहन भी उनके सहारे खूब खा-कमा रहे हैं, सलमान की शोहरत बुलंदियां छू रही है तो शादी को बीच में डालकर क्यों इस आनंद में खलल डाला जाए। शादी हो जाएगी जब होनी होगी या जब सलमान चाहेंगे।

5- पिछले कुछ सालों से सलमान की लगभग हर फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर शानदार सफलता पाई है। इस सफलता ने उन्हें फिल्म इंडस्ट्री में एक अलग स्टेटस दिला दिया है। इस सफलता के कारण शाहरूख खान तक की चमक भी कुछ फीकी पड़ी है। कोई आश्चर्य नहीं कि सलमान सोचते हों कि इस छप्पर फाड़ सफलता के पीछे उनका अविवाहित रहना भी एक वजह है। उन्हें आशंका होती होगी कि शादी कर ली तो कहीं इस सफलता को बनाए रखने के लिए किए जाने वाले प्रयासों से उनका ध्यान भंग न हो जाए। यानी इसे हम यूं भी कह सकते हैं कि छप्पर फाड़ सफलता मिलते रहने तक तो सलमान की शादी की संभावना कम ही है।

6- यह एक तथ्य है कि कॅरियर बनाने के चक्कर में आम समाज में भी युवक और युवतियां काफी देर से विवाह करने लगे हैं। इसके बाद ऐसा भी होता है कि ज्यादा उम्र होने के कारण अनेक युवक-युवतियां अविवाहित रहने का फैसला कर लेते हैं। ज्यादा उम्र होने पर शादी के लिए सही जोड़ीदार मिलना भी मुश्किल हो जाता है। बेशक, सलमान खान आम समाज से नहीं आते मगर उन पर नियम वही लागू होते हैं जो बाकी इंसानों पर।

7- ऐसा नहीं है कि सलमान ने शादी करनी नहीं चाही। खुद उनके ड्रेस डिजाइनर एशले रिबैलो ने कहा है कि वे पिछले कई सालों के दौरान सलमान के कहने पर दस बार शादी की शेरवानी बना चुके हैं। इसका मतलब यह है कि हर बार ऐन मौके पर बात बनते-बनते रह गई। इसका मतलब यह भी है कि इतनी बार शादी में विफल होने पर हो सकता है कि सलमान ने ही स्वयं से कह दिया हो- अब भाड़ में जाए शादी।

8- सलमान उम्र के उस मोड़ पर पहुंच चुके हैं, जहां कोई भी व्यक्ति अपने लिए एक खास तरह की जीवनशैली, दिनचर्या और रहन-सहन की खास तरह की आदतें बना लेता है। इसके बाद वह इन्हें बदलने के लिए किसी भी कीमत पर तैयार नहीं होता। शादी होने पर खुद की आदतों (सिगरेट, शराब, उठना, बैठना, सोना, खाना आदि) में बदलाव करने का डर भी सलमान को शादी से रोकता होगा और आगे-आगे और ज्यादा रोकेगा, क्योंकि उनका मन छोटे से छोटे बदलाव (जैसे बिस्तर पर दोनों पैर फैलाकर आराम से सोने के बजाय किसी के साथ बिस्तर में साझीदार होना और शरीर को थोड़ा सिकोड़ना) को भी कतई तैयार नहीं होगा, जबकि शादी के बाद हर व्यक्ति को खुद में थोड़ा-बहुत बदलाव करना ही होता है। ऐसा न किया जाए तो या तो दंपति में कलह पैदा हो जाती है या शादी टूट जाती है।

9- इस बात को हम टाटा समूह के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा के उदाहरण से अच्छी तरह समझ सकते हैं। रतन टाटा ने एक साक्षात्कार में खुलासा किया था कि उन्हें जीवन में चार बार प्यार हुआ और चारों बार ऐसे मौके आए जब उन्होंने शादी करनी चाही, मगर किसी न किसी कारण से शादी नहीं हुई। फिर उन्होंने यह सोचना शुरू किया कि अविवाहित रहने में ही क्या बुराई है। उन्हें यह भी लगा कि शादी के बाद समस्याएं ज्यादा बढ़ जाएंगी और इस तरह वे कुंआरे ही रह गए।

10- सलमान पर चल रहे हिट एंड रन और काले हिरण के शिकार वाले मामलों को भी उनकी शादी में हुई देरी के लिए एक वजह माना जा सकता है। संजय दत्त पर जिस प्रकार कानून का डंडा चला, उससे सलमान के परिजनों और उनके चाहने वालों को डर है कि कहीं यह सुपर स्टार भी जेल की हवा न खा जाए। हालांकि सलमान को जेल जाने से बचाने के लिए उनके परिजन जबरदस्त मशक्कत कर रहे हैं।

11- अगर सलमान शादी नहीं करेंगे तो पुत्र या पुत्री के रूप में उनका वंश कैसे चलेगा? इसका जवाब यह है कि जब लोग जात-पात, धर्म आदि से ऊपर उठ जाते हैं तो संतान उनके लिए ज्यादा बड़ा मुद्दा नहीं रहती। इसलिए खुद को आधा हिंदू, आधा मुसलमान कहने वाले सलमान के मामले में इस दृष्टि से भी कई संभावनाएं दिखाई देती हैं। एक संभावना किराए की कोख में है। पुर्तगाल के स्टार फुटबालर क्रिस्टियानो रोनाल्डो एक बच्चे के पिता हैं, मगर बच्चे की माता का नाम किसी को पता नहीं है। बताया जाता है कि यह बच्चा उन्होंने किसी महिला की कोख किराए पर लेकर हासिल किया है। अविवाहित रहने की स्थिति में सलमान खान भी ऐसा कर सकते हैं। दूसरी संभावना सुष्मिता सेन के नक्शेकदम पर चलने की है। सुष्मिता सेन ने संतान की कमी पूरी करने के लिए बिना शादी किए ही दो बच्चियां गोद ले लीं है और शारीरिक जरूरत पूरा करने के लिए वह जल्दी-जल्दी पुरुष मित्र भी बदलती रहती हैं। कुछ ऐसा ही सलमान खान भी कर डालें तो कोई आश्चर्य की बात नहीं होगी।
—————–

ये क्यों रह गए कुंआरे

अटल बिहारी वाजपेयी

पूर्व प्रधानमंत्री के जीवन में महिला मित्रों की कमी नहीं रही। संभवतः इस कारण और बड़ी राजनीतिक जिम्मेदारियां उठाने की वजह से ही वाजपेयी जी कुंआरे रह गए। दबी जुबान से ही सही, मगर उनके कई प्रसंगों की काफी चर्चा हुई। उनकी सबसे अच्छी दोस्त थीं उनके कॉलेज के दिनों की मित्र और बहुत ही खूबसूरत कश्मीरी महिला राज कुमारी कौल। गहरी मित्रता के बाजवूज वाजपेयी और कौल की शादी नहीं हुई, मगर जब वाजपेयी प्रधानमंत्री बन गए थे तो लोगों ने राजकुमारी कौल को भी प्रधानमंत्री निवास में मौजूद पाया। वहां सब उन्हें माताजी कहते थे। वाजपेयी के भोजन आदि की जिम्मेदारी कौल की ही थी। कौल आज इस दुनिया में नहीं हैं और वाजपेयी भी स्वस्थ नहीं हैं। एक समय एक पत्रिका को दिए इंटरव्यू में कौल ने कहा था कि उन्होंने और वाजपेयी ने कभी इस बात की जरूरत महसूस नहीं की कि इस रिश्ते के बारे में कोई सफाई दी जाए।

मायावती

दलित समाज के लिए काम करने की प्रतिबद्धता, राजनीतिक और पारिवारिक जिम्मेदारियों के कारण ही संभवतः इस दलित नेत्री को शादी के बारे में सोचने का अवसर नहीं मिला और उन्होंने शादी नहीं की। उनके शादी नहीं करने के कारणों में दलितों को यह संदेश देना भी था कि देखो मैंने यह जो जीवन चुना है, वह तुम्हारा कल्याण करने के लिए ही चुना है।

राहुल गांधी

43 साल के राहुल गांधी देश के सबसे वांछित कुंआरों में से एक हैं, मगर दिक्कत यह है कि एक तरफ जहां सलमान खान की शादी में उनकी छप्पर फाड़ सफलता आड़े आ रही है, वहीं राहुल गांधी के मामले में उनकी घोर विफलता रास्ता रोक रही है। उनकी मां को संभवतः उनकी सफलता का इंतजार है। राहुल की महिला मित्र विदेशी बताई जाती है। देश में कुछ हासिल किए बिना विदेशी महिला को बहू बनाकर लाना शायद राहुल गांधी और उनकी माता को उनके राजनीतिक कॅरियर की दृष्टि से ठीक नहीं लग रहा है।

नवीन पटनायक

पूरी जवानी उड़ीसा से दूर रहे और फिर 1997 में अचानक पिता बीजू पटनायक के निधन के बाद उन्हें उड़ीसा आकर पिता की राजनीतिक विरासत संभालनी पड़ी। इसके बाद बीजू जनता दल का गठन किया और राज्य के लोकप्रिय मुख्यमंत्री के रूप में पहचान बनाई। संभवतः इन्हीं राजनीकि झंझावतों और लेखन (कई पुस्तकें लिख चुके हैं) में समय खपाने के कारण उन्हें शादी की सुध नहीं आई।

ममता बनर्जी

केवल 15 वर्ष की आयु में ही राजनीति में प्रवेश कर गई ममता बनर्जी संघर्ष के साथ सफलता भी पाती गईं। वे केंद्र में अनेक विभागों की मंत्री बनीं और फिर मुख्यमंत्री भी बन गईं। संभवतः संघर्ष और सफलता के इन्हीं समीकरणों के बीच वे विवाहित जीवन में प्रवेश करना भूल गईं।

जयललिता

अपनी जवानी के दिनों में लाखों दक्षिण भारतीय युवाओं के दिल की धड़कन रहीं अभिनेत्री और अब तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता का नाम अभिनेता और पूर्व मुख्यमंत्री एमजी रामचंद्रन के साथ जोड़ा जाता था। दोनों ने करीब 25 फिल्मों में साथ काम किया था। रामचंद्रन ही जयललिता को राजनीति में लेकर आए थे, लेकिन रामचंद्रन के शादीशुदा होने के कारण जयललिता उनके साथ स्थायी बंधन में नहीं बंधी। बाद में तो वह राजनीति में ऐसी उलझीं कि शादी के लिए कोई अवसर ही नहीं बचा।