Ameen-Sayani
गीतमाला के श्रोताओं को अमीन सयानी का नमस्कार…याद आया! इस कार्यक्रम को सुनने के लिए लोग एक हफ्ते तक बेसब्री से इंतजार किया करते थे। किसी जमाने में रेडियो होना सोशल स्टेटस का प्रतीक हुआ करता था। टेलीविजन,इंटरनेट, म्युजिक प्लेयर या टेपरिकार्डर इत्यादि ने रेडियो को बडी चुनौती दी। जिसका जवाब एफ एम रेडियो ने जोरदार तरीके से दिया। एफ एम ने रेडियो का जमाना वापस लाया है। जिंदगी में रेडियो एक बार फिर से दाखिल हो गया है। अब रेडियो पर इतने सारे नए गीत आ रहें कि नयी सीडी खरीदने की जरूरत नहीं महसूस होती । सिटी बसों पर एफ एम में चल रहा मधुर संगीत में लोग बुरी बातें भूल जिंदगी का लुत्फ उठाते हैं। यह संगीत का कमाल है। ऐसा पाया गया कि यदि पेड-पौधों को संगीत की संगत में बढने का अवसर दिया जाए…तो वो अधिक विकासशील हो जाते हैं। आदमी भी संगीत के जादू से अछुता नहीं। मधुर संगीत मन को शांति देकर शरीर में नयी ताजगी का संचार कर सकता है। उदघोषकों की प्रयोगधर्मी आवाज…उतार चढाव काफी आकर्षित करते हैं। श्रोताओं की नब्ज का अंदाजा शायद इन्हें है। रेडियो ने टीवी धारावाहिकों के प्रसारण का जमाना भी देखा है। पहले पहल टेलीविजन केवल सूचना का माध्यम हुआ करता था। सिनेमा व संगीत की लोकप्रियता का असर टीवी पर पडा। शुरू हुआ फीचर फिल्मो का प्रसारण,फिर फिल्मी गीतों से सजा चित्रहार भी। लेकिन वो भटका …। रेडियो का वजूद टीवी से ऐसा मेल नहीं खाता कि कार्यक्रमों का लेनदेन किया जा सके, लेकिन यह हासिल हो चुका है। एफ एम के पास नए व हिट कार्यक्रमों का विकल्प उपलब्ध रहता है। रेडियो चैनल यह समझ रहे हैं कि लोग बार-बार उसी फनकार को नहीं सुनेंगे। वो नहीं चाहते कि हल्की-फुल्की जानकारियों से उन्हें बहकाया जाए। रेडियो केवल टीवीनुमा- सिनेमानुमा बनकर न रह जाए। कुछ शिक्षा-कहानीनुमा भी हो। बीग एफ एम पर प्रसारित ‘यादों का इडियट बाक्स…याद शहर’ श्रोताओं की चाहत को ध्यान से सु्न रहा है। काफी-हाऊस पर युनुस खान भी कहानियां लेकर आते हैं। कोई भी वक्त या मौसम आप रेडियो को ट्युन कर मनपसंद कार्यक्रम सुन सकते हैं। विकास की भूख ने रेडियो को अनिवार्य बनाया था। सूचना व मनोरंजन के तालमेल ने उसे लोकप्रिय बना दिया।

परंपरागत रेडियो जब अपनी सीमाओं से पीडित होने लगा। श्रोताओं की अपेक्षाओं को पूरा करने के रास्ते तलाशे जाने लगे । इन प्रश्नों को ध्यान में रखकर रेडिकल बदलाव अनिवार्य हो चले। इन्हीं बदलावों ने एफ एम रेडियो का आधार रखा। इस प्रसारण तकनीक में तरंगें बहुत ऊंचे जाकर बिखरती हैं व आवाज़ बडी साफ सुनी जा सकती है। संगीत के शौकीन लोगों को रेडियो में एक नयी कहानी मिली। यहां डिजिटल स्टीरियो को केंद्र में रखकर रोचक कार्यक्रम तैयार किए गए। सुबह-शाम घर से दफतर, दफ्तर से घर तक सफर ट्रेफिक में गुजार दिया करते हैं। एक तरह से महानगरों की आधी आबादी एक समय में सडकों पर रहती है। उनके लिए हर पल की ट्रेफिक मूवमेंट खबरें बडी उपयोगी होती हैं। फरमाइशी कार्यक्रमों में खत लिखकर इंतज़ार करने का जमाना तेजी से बदल रहा है। एक किस्म की भागीदारी के जरिए सक्रिय साझेदारी को रेखांकित किया गया। सहभागी रेडियो की संकल्पना शायद इसी को कहते हैं। खनकता हुआ संगीत,दिलकश अदाएगी,अनवेषी कार्यक्रमों की संकल्पना एफ एम रेडियो की बडी ताकत बन गए हैं । नब्बे दशक के मध्य में शुरु हुयी क्रांति आज एक एक दैनिक जरूरत बन गयी है। शरूआत में कहा गया कि रेडियो ने वेस्टर्न पावर को तबाह किया…अब हिन्दुस्तान की बारी है। हमारे यहां एफ एम रेडियो की शुरुआत ऐसे समय में हुई जब आडिया कंपनियां अपनी तकदीर का मातम कर रही थी। उसका उदय उस जमाने में हुआ जहां टिकाऊ संगीत को पांव जमाने की जगह नहीं मिल रही थी। आज का जमाना एफ एम के लिए माकूल समय है। जब वो आया तब भी माकूल था। आज हर तीसरे दिन एक नया गाना रिलीज हो जाता है। एक नजरिए से देखा जाए तो आडियो कंपनियों की खराब तकदीर रेडियो के लिए आक्सीजन सी है। फुर्सत कम होने की वजह से शुरू में लोग क्वालिटी पर ध्यान नहीं दे रहे थे। आज रेडियो लोगों को लिस्निंग लिट्रेट कर रहा है। आज का रेडियो स्थानीय संवेदनाओं से जुडे कार्यक्रम भी बनाने लगा है। जाहिर है कि दिल्ली व कोलकाता में रहने वाले लोगों का स्वाद अलग है। दर असल माइक्रोफोन के सामने जो प्रस्तुत किया जा रहा वो सब वाचिक कला का ही विस्तार है। रेडियो के चरित्र को बनाने में ध्वनि-वाणी-संगीत का रोल निर्णायक है। सुनने वालों का अनुभव संसार आंदोलित करने के लिए नित नए प्रयोग जरूरी हैं। क्योंकि एक्शन आवाज से परवान चढती है। रेडियो भाषा विमर्श व विवाद का बडा विषय है। लेकिन आप गौर करेंगे कि भाषा परिवेश से उतपन्न होती है।

हाल ही में बीग एफ एम ने रेडियो फिल्म का प्रसारण शुरु किया । यादों के इडियट बाक्स फेम सरीखा लेखकों की एक नया मंच मिला। रेडियो में फिल्म वाली बात सुनकर एक दिलचस्प मुस्तकबिल नजर आता है। कहानियां-नाटक-रूपक रेडियो पर एक अरसे से सुनाए जा रहे थे। नीलेश मिश्रा की याद शहर की कहानियां अपने अंदाज़ में अब तक की परंपरा से अलग हैं। आपको ‘काफी हाऊस’ कार्यक्रम में आने वाली कहानियां भी पसंद आएंगी। याद शहर की कहानियां युवा लेखको को उचित मंच देने के लिए मशहूर हो चली हैं । कहना होगा कि इस कार्यक्रम ने प्रतिभाओं को गुमशुदा होने से बचाए रखा है। याद एक साहस भरा प्रयास है। रेडियो में फिल्म का नया आकर्षण जुडना माध्यम की जिंदगी में दिलचस्प मोड थी। एक पडाव से दूसरे पडाव का रास्ता याद शहर की सडक से गुजरते देख रहा हूं। श्रोताओं को बेहतर से बेहतर सेवाएं देने की दिशा में बेहतरीन पहल यह थी।