By अनिल जैन

गोरक्षा के नाम पर गुंडों की भीड द्वारा किसी की भी हत्या कर देना अब आम बात हो गई है। पिछले दिनों बुलंदशहर में तो सत्ता का संरक्षण प्राप्त गुंडों ने दंगा भडकाने की नीयत से खुद ही गाय को काटा और फिर उसका दोष मुसलमानों के मत्थे मढते हुए पुलिस थाने पर हमला कर दिया और एक पुलिस अधिकारी की हत्या कर दी। घटना के आरोपी सत्तारूढ भाजपा के सहयोगी संगठनों के स्थानीय पदाधिकारी हैं और अभी तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

हाल के वर्षों में हमारे देश में और कुछ सस्ता हुआ हो या न हुआ हो, दो- तीन चीजें बहुत सस्ती हो गई है- इंसान की जान, भारत माता की जय का नारा, राष्ट्रभक्ति आदि! प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जहां अपनी हर सभाओं में ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाते हुए काल्पनिक किस्सों और मनगढंत तथ्यों के सहारे देश के महान स्वाधीनता सेनानियों और राष्ट्रनायकों को अपमानित करते हैं और अपने राजनीतिक विरोधियों के लिए गाली-गलौच वाली शब्दावली का इस्तेमाल करते हैं, वहीं दूसरी ओर नीचे के स्तर पर सत्ता का संरक्षण प्राप्त लफंगों की बेलगाम फौज ‘भारत माता की जय’ के नारे लगाते हुए कभी गोरक्षा के नाम पर, कभी तिरंगे के कथित अपमान के नाम पर तो कभी तथाकथित लव जिहाद और कभी बच्चा चोरी की अफवाह पर किसी भी बेगुनाह को सरेआम पीट देती है या उसे मौत के घाट उतार देती है। कभी-कभी तो बलात्कारियों और दूसरे अपराधियों को बचाने के लिए भी इन नारों का इस्तेमाल होता है। इस तरह की घटनाओं से शिक्षण संस्थान भी अछूते नहीं हैं। वहां भी न सिर्फ छात्र बल्कि शिक्षक भी इसी तरह की फर्जी देशभक्ति के शिकार हो जाते हैं। इस सिलसिले में ताजा मामला पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर का है, जहां फर्जी गोरक्षकों ने दंगा भडकाने की साजिश के तहत पहले एक गाय को काटा, फिर उसके नाम पर शोर मचाते हुए अपने कृत्य को मुसलमानों के मत्थे मढने की कोशिश की और फिर एक पुलिस अधिकारी की हत्या कर दी।

बताया जा रहा है कि गोहत्या की एक घटना के बाद भीड़ बेकाबू हो गई थी। पुलिस ने समझाने की कोशिश की लेकिन भीड़ ने थाने पर पथराव कर दिया, वाहन फूंक डाले और इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को गोली मार दी। उन पर गोली चलाने से पहले भीड में शामिल हत्यारों ने उनकी रिवाल्वर और मोबाइल फोन भी छीन लिए। भीड ने वायरलैस सेट सहित थाने की संपत्ति को भी तोडा-फोडा और थाने में आग लगा दी। इस दौरान पुलिस की ओर से की गई जवाबी फायरिंग एक युवक की भी मौत हो गई। सवाल है कि गोहत्या से नाराज लोग हथियार लेकर पुलिस के खिलाफ गोलबंद क्यों हुए थे? पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ही ऐसा कई बार हो चुका है कि लोग पुलिस-प्रशासन के पास इस तरह की शिकायत लेकर गए और जांच-पड़ताल के बाद मामले को शांतिपूर्वक हल कर लिया गया। लेकिन बुलंदशहर के घटनाक्रम से जाहिर होता है कि हथियारों से लैस भीड़ पुलिस पर हमला करने की नीयत से ही आई थी। वीडियो रिकॉर्डिंग के आधार पर बजरंग दल और गोरक्षा वाहिनी नामक संगठनों के पदाधिकारियों का नाम इस मामले में खुलकर सामने आ चुका है। घटना के सिलसिले में पुलिस ने जिन लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की, उनमें बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद और भारतीय जनता युवा मोर्चा के स्थानीय पदाधिकारियों के नाम भी शामिल हैं। बजरंग दल के जिला अध्यक्ष योगेश राज को भारतीय जनता युवा मोर्चा के नगर अध्यक्ष शिखर अग्रवाल को मुख्य आरोपी बनाया गया है। इन दोनों सहित तमाम आरोपी अभी भी फरार हैं और सोशल मीडिया पर अपने वीडियो संदेश जारी कर कानून-व्यवस्था को ठेंगा दिखा रहे हैं। दूसरी ओर राज्य के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) आनंद कुमार का कहना है कि उनके पास ऐसी कोई जानकारी नहीं हैं कि आरोपी बजरंग दल या विश्व हिंदू परिषद से जुडे हुए हैं, जबकि आरोपी साफ तौर पर कह रहे हैं कि जब भी उनका संगठन कहेगा, वे आत्मसमर्पण कर देंगे। जाहिर है कि एडीजी बजरंग दल के प्रवक्ता की तरह बयान दे रहे हैं। यह वही एडीजी है जिन्होंने कुछ महीने पहले हेलिकॉप्टर पर सवार होकर कांवड यात्रियों पर फूल बरसाए थे और अपनी वर्दी को शर्मसार किया था। बहरहाल उनका बयान बताता है कि आरोपियों को सत्ता का संरक्षण हासिल है और पुलिस आरोपियों को बचाने में जुट गई है।

बुलंदशहर की घटना के संबंध में उल्लेखनीय तथ्य यह भी है कि यहां पास के ही एक गांव में घटना के चार दिन पहले मुसलमानों के एक बहुत बडे धार्मिक जलसे ‘इज्तेमा’ का आयोजन हुआ था, जिसमें देशभर से आए आठ से दस लाख लोगों ने शिरकत की थी। आयोजन शांतिपूर्वक समाप्त हो चुका था और अधिकांश लोग अपने-अपने घरों को लौट गए थे। घटना वाले दिन यानी 3 दिसंबर को भी कुछ लोग लौटते समय जब यातायात जाम हो जाने की वजह से रास्ते में फंस गए और उनकी नमाज का वक्त हो गया तो इसी बुलंदशहर के लोगों ने गहन मानवीय संवेदना और सांप्रदायिक सद्भाव का परिचय देते हुए उन लोगों को समीप के शिव मंदिर परिसर में नमाज अदा करने के लिए बुला लिया था। लेकिन उसी बुलंदशहर के दूसरे हिस्से में उसी दिन गोकशी के नाम पर इस शर्मनाक घटना को अंजाम दे दिया गया। अभी तक जो वीडियो रिकॉर्डिंग के जरिए जो पुख्ता तथ्य सामने आए हैं, उनके मुताबिक बजरंग दल और गोरक्षा वाहिनी के ही कुछ लोगों ने उस दिन एक गाय को काट कर उसके टुकडे एक खेत में पटक दिए थे और फिर यह खबर फैलाई दी थी कुछ मुसलमानों ने गाय का कत्ल किया है। जाहिर है कि गोहत्या के नाम पर सांप्रदायिक दंगा भडकाने की योजनाबद्ध साजिश थी, जो सफल नहीं हो सकी।

बुलंदशहर में गो आतंकियों के हाथों पुलिस अधिकारी की हत्या एक दशक पहले मुंबई में आतंकवादी हमले के दौरान रहस्मय स्थितियों में मारे गए पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे की याद ताजा कराती है। गौरतलब है कि उन दिनों हेमंत करकरे महाराष्ट्र एटीएस के प्रभारी की हैसियत से मालेगांव बम धमाकों के मामले की जांच कर रहे थे, जिसमें साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, असीमानंद, कर्नल पुरोहित आदि अभियुक्त थे। चूंकि करकरे को जांच में इन अभियुक्तों के खिलाफ पुख्ता सबूत मिले थे, इसलिए वे इन अभियुक्तों के संरक्षकों-समर्थकों के निशाने पर थे। करकरे को आतंकवादी हमले के दौरान रास्ते से हटा दिया गया और शहीद करार देकर उनकी मौत को आतंकवादियों के खाते में डाल दिया गया। इस बात को करकरे की पत्नी अच्छी तरह समझती थी, लिहाजा उन्होंने अपने पति की मौत की जांच की मांग करते हुए राज्य सरकार द्वारा दी गई मुआवजा राशि लेने से इनकार कर दिया था। लगता है कि बुलंदशहर में पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को भी करकरे की तर्ज पर ही रास्ते से हटाया गया है। उनकी हत्या के तार दादरी के बहुचर्चित अखलाक हत्याकांड की जांच से जुडे होने की आशंका है। गौरतलब है कि नोएडा के दादरी गांव में गोमांस अपने घर में रखने के झूठे आरोप में उन्मादी तत्वों ने अखलाक नामक एक व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। उस हत्याकांड की जांच बुलंदशहर की घटना में मारे गए पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार ने ही की थी। आरोपियों को बचाने के लिए जांच के दौरान उन पर काफी दबाव आया था लेकिन उस दबाव में आए बगैर उन्होंने मामले की जांच की। जांच में बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद से जुडे कुछ लोगों का नाम हत्याकांड के लिए जिम्मेदारों के तौर पर उभरकर आया था। यह तथ्य भी बुलंदशहर कांड के पीछे साजिश की आशंका को जन्म देता है। सुबोध कुमार की पत्नी और बहन ने भी इसी आशय का आरोप लगाया है।

यह भी कम शर्मनाक और दुखद बात नहीं है कि घटना के वक्त तेलंगाना और राजस्थान में चुनाव प्रचार करते हुए भडकाऊ भाषण परोसने में मशगूल राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घटना पर तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और जब बाद में अपना मुंह खोला भी तो पुलिस अधिकारी की हत्या को एक दुर्घटना करार देते हुए गोहत्या करने वालों पर कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए। पुलिस ने उनके निर्देश का पालन करते हुए इस सिलसिले में जिन सात लोगों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की है, वे सभी मुसलमान हैं। हैरानी की बात यह है कि उन सातों नाम वाले व्यक्ति उस गांव में रहते ही नहीं हैं। यानी पूरा फर्जी मामला तैयार कर वास्तविक अपराधियों को बचाने की दिशा में काम किया गया है। जाहिर है कि इस गोरक्षा के नाम राज्य में जो दहशतगर्दी और हिंसा की जा रही है, उसे पूरी तरह सत्ता की सरपरस्ती हासिल है।

उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर की घटना कोई पहली नहीं है। हाल के वर्षों में खासकर उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद इस तरह की कई घटनाएं हो चुकी हैं। ऐसी ही घटनाएं अन्य राज्यों में भी हुई हैं और किसी भी घटना में आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है। गौरतलब है कि इसी साल जून के महीने में सुप्रीम कोर्ट के तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने कहा था कि गोरक्षा के नाम देश में हो रही हिंसा को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। सरकार यह सुनिश्चित करें कि इस तरह की घटनाएं न हों। उन्होंने यह भी कहा था कि गोरक्षकों की हिंसा रोकने के लिए कोर्ट एक विस्तृत आदेश जारी करेगा, लेकिन ऐसा कोई आदेश आज तक जारी नहीं हो सका और गोरक्षा के नाम पर हिंसक घटनाओं का सिलसिला बना हुआ है। 2017 के पहले छह महीनों के दौरान गोहत्या की अफवाह पर 20 लोग भीड की हिंसा का शिकार हुए। ये मामले 2016 की तुलना में 75 फीसद ज्यादा थे। इस साल देश के दस राज्यों में गोरक्षा के नाम पर भीड के हमले के 14 मामले दर्ज हुए हैं, जिनमें 31 लोगों की मौत हुई। 2010 से 2017 के बीच दर्ज 63 मामलों में से 97 फीसद मामले पिछले तीन साल में दर्ज हुए हैं। इस तरह की घटनाओं का लगातार दोहराव देश के भविष्य के बेहद अशुभ संकेत है। इस तरह की घटनाएं देश को सीधे-सीधे गृहयुद्ध में झोंकने की साजिश है।