habib

सैयद एस.तौहीद

उन दिनों दिल्ली के नाटय-उत्सवों में कालेज की नाटय-मंडलियों व शौकिया कलाकारों का एकाधिकार था। यह मंडलियां प्रमुख रूप से अंग्रेजी प्रस्तुतियां दे रहे थे, कुछ लोग मूल युरोपीय नाटकों का हिन्दी रूपांतरण प्रस्तुत कर रहे थे । एक तरह से दिल्ली का रंगमंच युरोपीय प्रभाव में आकार ले रहा था | इसमें रंगमंच की अवधारणा, अभिनय,प्रस्तुति और अन्य तत्व ‘युरोपीय माडल’ से प्रेरित थे । इस चलन को तनवीर के ‘आगरा बाज़ार’ ने चुनौती दी । आपके आगरा बाज़ार से पहले परंपरागत भारतीय तत्वों को दिल्ली के रंगमंच से बेगाना सा कर दिया गया था । तनवीर की प्रस्तुति ने सांस्कृतिक परंपराओं के प्रति नागरिकों के अप्रतिम लगाव को ताज़ा किया । प्रस्तुति में लोगों को भारतीयता की सच्ची अनुभूति हुई । आगरा बाज़ार नज़ीर अकबराबादी की रचना थी, उनकी शायरी व सांस्कृतिक रुचि को ‘आगरा बाज़ार’ में सशक्त अभिव्यक्ति मिली। तनवीर साहेब की शैली ने ‘आगरा बाज़ार’ को अधिक दर्शनीय बना दिया था। आगरा बाज़ार की सफल प्रस्तुति से प्रोत्साहित होकर विश्व स्तर की रंगमंच प्रस्तुतियों की खोज में विदेश का रुख किया, उस सफर में मशहूर नाटककार बर्तोल्त ब्रेख्त के रंगमंच विद्यालय एवं रंगमच की रायल अकेडमी में अनुभव बटोरे । आपने पू युरोपीय रंगमंच का जायजा लिया और बारिकियों को भी समझने का प्रयास किया। इसी क्रम में ब्रेख्त की प्रस्तुतियों से देखने का प्रयाप्त समय मिला था।

तनवीर का बचपन रायपुर में गुज़रा। खानदान के कुछ लोग वहां ज़मींदार थे । परिवार के कुछ सदस्यों के संयोग से ग्रामीण जीवन से परिचित हुए. बचपन के दिनों में उन्हें गांवों में जाने के अनेक अवसर प्राप्त हुए, आपमें जीवन-संस्कृति प्रति आकर्षण बनना शुरु हो गया था। पारंपरिक देशज संगीत के जरिए अपनी माटी से गहरा जुडाव हुआ, इस अनुभव से अक्रांत हुए। आप लोक कलाओं से अक्रांत हुए …कलाओं की साधना का सफर शुरु हुआ । सतत साधना के दम पर वह ‘लोक-कला’ की नाट्य विधा के संवेदनशील पथ-प्रदर्शक बने। शुरुआती शिक्षा रायपुर के नगर निगम विद्यालय में हुई। कालेज की पढाई के लिए नागपुर चले आए, वहां उन्होंने माउरिस कालेज में दाखिला लिया। फिर अलीगढ विश्वविद्यालय में स्नातकोत्तर के लिए आए, अलीगढ में रहते हुए लेखन की ओर रुझान हुआ । शुरुआत कविताओं से की, तनवीर नाम से कविताएं लिखी । तक़दीर की तालाश में बंबई चले आए,आल इंडिया रेडियो में काम मिला। सृजनात्मक साधना को जारी रखते हुए आगे भारतीय जन नाट्य संघ एवं प्रगतिशील आंदोलन से जुडे । फिर वहां से दिल्ली चले आए,जहां क़ुदसिया ज़ैदी के हिन्दुस्तानी रंगमंच में नए अवसर आपका इंतज़ार कर रहे थे।

तनवीर का मानना था कि आत्म सांस्कृतिक व परंपरागत संदर्भों के अभाव में रंगमंच प्रस्तुति सामाजिक उपयोगिता एवं कलात्मक मनोरंजन को प्राप्त नहीं कर सकती । वह रंगमंच के विशुध भारतीय प्रारूप की खोज पर निकल पडे, परंपरागत छत्तीसगढी लोक कलाओं को लेकर आए । वहां के लोक कलाकारों को लेकर नाट्य मंडली का गठन किया बनाया। परंपरागत छत्तीसगढी क्लेवर युक्त ‘मिटटी की गाडी’ का निर्माण इस क्रम में उल्लेखनीय रही । मिटटी की गाडी जिसे ‘मृचकटिकम’ के स्तरीय आधुनिक रुपांतरण का दर्जा हासिल रहा, माध्यम से अपने ने ‘संस्कृत नाटकों’ की शैली और तकनीक को लोकप्रिय लोककलाओं में उपयोग किया। शुरू में आप परिणामों से पूरी तरह संतुष्ट नहीं थे, उत्तम परिणामों की खोज में लोक कलाकारों को लेकर खुद में सुधार की आवश्यकता समझ आई। वह समझ गए कि अभिनय व प्रस्तुति का खाक़ा पहले से बना लेना उचित नहीं, साथ ही छत्तीसगढी लोक- कलाकारों को हिन्दी बोलने के लिए मजबूर करना भी ठीक नहीं । लोक-कलाकारों के साथ काम करने के तरीके में बदलाव लाते हुए आपने उन्हें करके सीखने की आज़ादी दी । कलाकारों को अपनी बोली की आजादी देते हुए परंपराओं को उनके निराले अंदाज़ में रखने दिया । इस संदर्भ में ‘गांव का नाम ससुराल मोर नाम दामाद’ का जिक्र किया जा सकता है । आपकी इस प्रस्तुति को छत्तीसगढ से लेकर दिल्ली तक खूब प्रशंसा मिली । यह नाटक आपके रंगमंचीय सफर में मह्त्त्वपूर्ण पडाव साबित हुआ । मशहूर ‘चरणदास चोर’ के समय तक हबीब साहेब की छत्तीसगढी रंगमंच शैली गुणवत्ता के उच्चतम स्तर को पा चुकी थी ।

लोक-कलाओं का प्रति उनका जुनून परंपरागत माध्यमों की असीम कलात्मक ऊर्जा एवं रचनात्मक संभावनाओं पर आधारित था । आपके रंगमंच की फ्युजन धारा किसी भी प्रारूप से पूरी तरह से प्रभावित नहीं रही। उसमें भारतीय व युरोपीय रंगमंच प्रस्तुतियों का कुशल संयोजन गढा हुआ था। आपकी नाटय मंडली में हमेशा उन कलाकारों का स्वागत हुआ जो विशेष शैली के साथ आए, टीम में गायन व नृत्य में निपुण कलाकारों को अवसर मिला। हबीब तनवीर का एक धारा शुरु से ही लोक तत्वों के प्रति समर्पित भी रही। आपने फ्युजन रंगमंच का आधार रखा। फ्युजन में छत्तीसगढ के पांडवनी और नाचा लोक नृत्यों को एक सांचे में पिरोने के साथ-साथ महानगरीय व ग्रामीण कलाकारों को एक मंच पर लाने का सराहनीय काम किया। उनके नाटकों की कथावस्तु परंपरागत संस्कृत थियेटर से लेकर शेक्सपियर की रचनाओं से पेरित रहती थी। इनमें लोक विषय एवं सामयिक युरोपीय प्रस्तुति का सुंदर मिश्रण मिलता है। उनकी नगरीय,आधुनिक एवं परंपरागत लोक शैलियों का सबसे कुशल संयोजन ‘कामदेव का अपना,बसंत ॠतु का सपना’ और ‘साजपुर की शांतिबाई’ में बन पडा था। नाटकों में गीतों के दर्शनीय प्रयोग के लिए आपके नाटक याद किए जाते हैं। गीतों में लोक स्पर्श का कुशल उपयोग तनवीर की कविताई को प्रमाणिकता देती है। इस संबंध में ‘देख रहे हैं नयन’ का भी नाम लिया जा सकता है। तनवीर की किताबों में भी बहुत रूचि रही, आप पुस्तकों को आत्म-संवाद की सशक्त शक्ति तौर पर देखा करते थे । आस्टिन-आर्थर मिलर व उर्दु अदब से जुडी किताबें आपके घर में शायद अब भी मिल जाएं।

साठ के दशक में आपने पत्नी मोनिका मिश्रा के सहयोग से ‘नया थियेटर’ को स्थापित किया । इस रंगमंच मंडली के बैनर तले अनेक नाटकों का निर्माण व मंचन किया। भारत व युरोप की प्राचीन व आधुनिक शैली का कुशल संयोजन करते हुए रोचक प्रस्तुतियां दीं । नया थियेटर ने हमें सपुर्ण भारतीय रंगमंच प्रस्तुति को अनुभव करने का अवसर दिया था। समकालीन परिदृश्य में नया थियेटर की प्रस्तुतियां क्रांतिकारी पहल बन कर समक्ष थीं । नया थियेटर से अलग प्रस्तुतियों में ‘दुश्मन एवं ‘जिसने लाहौर नहीं देखा’ खासे लोकप्रिय रहे। आपमें लोक कला व परंपराओं के प्रति खास आकर्षण रहा ,रंगमंच में उन तत्वों को व्यापक स्तर पर शामिल करते थे । नया थियेटर मंडली में पढे-लिखे अथवा आधुनिक व लोक कलाकारों का दिलचस्प समन्वय था। मंचीय प्रस्तुति में इन कलाकारों ने सफल एकीकृत प्रस्तुतियों का उदाहरण रखा । आपमें बाज़ार की बोल-चाल को लेकर खासी दिलचस्पी रही ,बाज़ार व दरबार की जबानों व तहज़ीब का तुलनात्मक अध्ययन करते थे। नज़ीर अकबराबादी रचना से प्रेरित ‘आगरा बाज़ार’ में एक रोचक सब्जीफरोश की संकल्पना थी । सब्जीफरोश का मानना था कि गर कोई शायर सब्जियों की तारीफ में कुछ लिखता तो वो ज्यादा बिक सकती थीं । कथा ने उस चोर की कहानी पेशे की जो इज्जत के लिए जान जोखिम में डालने वाला इंसान था । इस नाटक से यह संदेश मिला कि सच पर अडिग रहना बहुत ही कठिन होता है। अधिकांश लोगों की तरह एक चोर भी सच-झूठ पर जिंदा रहता है । तनवीर के पोंगा पंडित जिसे लोक कलाकार सुखराम व सीताराम ने लिखा था, विरोधियों ने इसे हबीब साहेब की रचना कहा। यह लोग तनवीर पर मनमाना आरोप लगाकर नाटक का विरोध कर रहे थे । विरोधियों ने संवेदनशील तनवीर को हिंदु विरोधी करार देते हुए ‘पोंगा पंडित’ से जुडे सदभाव की बडी हानि की। लोककलाओं के प्रति आपका नज़रिया समकालीन रंगमंच विचारधारा मे क्रांतिकारी सोच का आगमन था। लोकप्रियता के पैमाने पर तनवीर का नाम वैचारिक लोककला के समकक्ष देखा जा सकता है । लोक नाट्य की समकालीन हालात उत्साहजनक नहीं थी। आप जब इस क्षेत्र में आए तो उस समय रंगमंच लोककलाओं से प्रेरित प्रस्तुतियों के ऊपर सोंच नहीं रहा था। लोककलाओं को रंगमंच का हिस्सा बनाने की क्रांतिकारी पहल हबीब तनवीर से शुरु होती है । तनवीर की कला साधना आपके समर्पित जीवन का प्रमाण है । ज़िंदादिली से जीने में यकीन रखते हुए आखरी दिनों तक कला साधना में जुटे रहे। परिणामों से अधिक विचारों के ऊपर सोचा । जीवनकाल में किंवदंती का रूतबा हासिल करना दुर्लभ हुआ करता है । तनवीर के विलक्षण किरदार ने उसे मुमकिन कर दिखाया था।