हैदर रिजवी रेडियो वाले और कृष्णकांत के दोनों के कुछ विचार!

Category: सोशल मीडिया 340 views 19

Haider Rizvi
17 April at 23:58 ·
मेरा धर्म बेस्ट, मेरी किताब बेस्ट, मेरा पैग़म्बर बेस्ट, मेरा धार्मिक स्थल बेस्ट यहाँ तक कि मेरे धार्मिक स्थल का लाउडस्पीकर बेस्ट…….. तुम्हारा सब कुछ बेस्ट है क्यूनकि तुम्हारा है …. तो फिर मोदी-योगी का सूर्य नमस्कार, योगा, आरती, मूर्ति विसर्जन, गीता, वेद, संस्कृत, भगवा, मटर पनीर, धोती, चोटी वग़ैरह वग़ैरह बेस्ट होने पर इतनी आपत्ति क्यूँ……
तुमहे दूर से देखता हूँ तो ऐसा लगता है जैसे मुहल्ले के छोटे बच्चे मेरे पापा बेस्ट मेरे पापा बेस्ट कहकह कर बाल नुचववल कर रहे हों….. कोई अम्बेडकर को इतना बड़ा बनाए जारह है की क्षितिज छोटा पड़ जाय, कोई परशुराम जी पर मोहित है, कोई गांधी को पैग़म्बर बनाए दे रहा है तो किसी के भगत सिंह भगवान बने जारहे हैं….. जिसे कुछ नहि मिला वो गय्या की अलापे पड़ा है…..
शुक्र मनाओ तुम्हें कांग्रेस भाजपा जैसे नेता मिलते हैं… मेरे जैसा कोई सरफिरा मिलता तो तुम्हारे धर्मों को तुम्हारे घर से बाहर निकलते ही जेल में डाल देता….. भाड़ में गयी तुम्हारी आज़ादी भाड़ में गयी तुम्हारी आस्था……. पूरी की पूरी जेनरेशंस का सत्यानाश किए बैठे हो…….
एक दहेज लिए बिना बहु नहि लाता तो एक तीन तलाक पर औरत को नचाए फिरता है…. और बेशर्म दोनो ऐसे लड़ते हैं एफ़बी पर जैसे इनहि के घर सब पैग़म्बर और अवतार जन्मे हों….. जो अपनी मा बहनो के सगे नही हुए मुल्क और क़ौम के सगे होने की पोस्ट लिख कर लाइक कमेंट बटोर रहे हैं…..
और नास्तिक….. इनकी बता रहा हूँ, ये आने वाले समय में ख़ुद एक बीमारी बनेगे… यह आस्टिकता से ज़्यादा नास्तिकता की ढपली बजाए पड़े हैं… अगर यह शरीफ़ होते तो चुपचाप अपनी आस्था या अनास्था घर में लिए बैठते… लेकिन इन्हें सिर्फ़ पब्लिसिटी चाहिए……
दरअसल तुम लोग लोकतंत्र में रहने के लायक ही नहि हो… तुम्हें वो शसक चाहिए जो ख़ुद को भगवान का अवतार या पैग़म्बर बता दिन भर तुम लोगों से अपने चरण धुलवाए और जयजयकार करवाए…. तुम ग़ुलाम थे और ग़ुलाम ही रहना, क्यूँकि तुमने आज़ादी का मतलब ही नहि सीखा……
सनातनियों ने अपनी इतनी प्यारी आज़ादी की मट्टी पलीद कर दी कर्मकांडों में फँसकर….. मुहम्मद साहब की दी आज़ादी को तुमने मुल्लों की शरीयत की रस्सी से जकड़ दिया…. गांधी की दी हुई आज़ादी को सत्ता की दलाली बना डाला….. और उस पर तुर्रा यह कि कोई सनेपचैट का मालिक तुम्हें जाहिल क्यूँ कह गया…..न तो क्या कहे तुम्हें????? एडिसन कहे? आइंसटाइन कहे? न्यूटन कहे?जब दुनिया भाप का इंजन बनारही थी तो तुम्हें यह सिखाया जारह था की अपने बाप के मरने पर अपनी मा को ज़िंदा न जलाओ…… जब दुनिया चाँद पर पहुँच रही थी तब तुम बरखे और पैजामे की लंबाइयाँ नाप रहे थे….. तुम्हारे जैसे ही देश्वासी होते हैं जिनका प्रधानमंत्री हर भाषण में पहले उन्हें ये सिखाता है कि बेटा देखो हगना कहाँ चाहिए, थूकना कहाँ चाहिए, मूतना कहाँ चाहिए…..और जब दुनिया सड़क पर उतरने की ज़रूरत महसूस कर रही है तब तुम बैठे फ़ेसबुक के लाइक्स गिन रहे हो…..
बड़े आए हैं सनेपचैट पर देशभक्ति पेलने वाले……इतिहास गवाह है कि भारतीयों ने जितने चुटकुले इन तीन सालों में गढ़े उतने शायद कभी न गढ़े गए होंगे….. मतलब तुम डोनो पार्टियों को राजनीति, विकास या आज़ादी नहि केवल मनोरंजन की दरकार है……. हँसो, पियो, खाओ, सो और जब जागो तो धर्म का नाम लेकर लड़ मरो…..
मरते भी तो नहि हो कंमबख़्तों…….हैदर रिज़वी———————— ———————–

-Krishn a Kant
19 hrs ·
हमने कहा ‘माइक का शोर अच्छा नहीं’ तो मुल्ला जी लोग लेकर उड़ लिए. कुछ भक्त आ गए, इस पर क्यों नहीं कहते, उस पर क्यों नहीं कहते. जबकि दुनिया जानती है कि माइक और ऐसे संसाधनों से सबसे ज़्यादा दुरुपयोग और शोर हिंदू करते हैं. हर मंदिर पर सवेरे भजन लगा देंगे और दो घंटे बजता रहेगा. हर अवसर पर डीजे, माइक, कानफोड़ू भद्दे गाने. अब उनकी नकल में मुसलमान भी डीजे फीजे बजाकर यात्रा और जुलूस निकलने लगे हैं. दोनों में मूर्खताओं की तगड़ी होड़ है. हमने कहा तो दोनों के लिए, लेकिन आप लेकर उड़ लिए. मेरी समझ है कि कट्टर हिंदू शातिर मूर्ख है, लेकिन कट्टर मुसलमान सिर्फ़ मूर्ख है. महामूर्ख.
जो यहां पर हमसे जुड़े हैं, वे जानते होंगे कि मैं नास्तिक हूं. नास्तिक होकर हमारे लिए एक ही कसौटी है, संविधान और मानवता की भलाई. सबकी बराबरी. जो कहूंगा सबके लिए कहूंगा. हमारे दिमाग में किसी धर्म के खिलाफ वह बजबजाहट नहीं है जो आपके दिमाग में है. हममें और आपमें यही फर्क है साहबान! यदि आप हमें जानते नहीं तो हमसे जुड़े क्यों हैं?
मेरी स्पष्ट राय है कि धर्मांधता आपको 500 बरस पीछे ले जाकर खड़ा करती है. कोई शक?Krishna Kant
20 hrs ·
हम नही सुनना चाहते
■ मानस पाठ के नाम पर बेसुरी आवाज़ और ग़लत उच्चारणों से भरी बोरिंग आवाज़ें जो पूरी रात माइक पर गूँजती हैं।
■ झूठे वादों और घटिया पैरोडी वाले चुनावी प्रचार जो दिन दोपहरी आराम नहीं करने देते।
◆ कपिल शर्मा की अश्लील और घटिया कॉमेडी जो पड़ोसी की टीवी पर चलती रहती है।
■ किरपा बरसाने के दावे करने वाले बाबाओं के प्रवचन।
■ अन्नू मलिक के साथ बैठकर फरहा और सोनू मलिक की घटिया बकवास और एक दूसरे की झूठी तारीफ़ें।
■ मन की बात तो हम कतई नहीं सुनना चाहते। लगता है चुनाव पांच साल पर नहीं हर घण्टे होते हैं।
■ हाँ हम भी सुबह सुबह अजान का शोर नहीं सुनना चाहते लेकिन उसी वक़्त हनुमान चालीसा का बेसुरा पाठ भी हमारी नींद और मूड ख़राब करता है। अगर अजान से आपको दिक़्क़त है और चालीसा का बेसुरा पाठ सुन्दर लगता है तो माफ कीजिये हम आपकी बकवास नहीं सुनना चाहते।Krishna Kant
22 hrs ·
महाकवि कुमार विश्वास ने एक वीडियो जारी किया है जिसमें वे सैनिकों को वीर सिपाही कह रहे हैं और सैनिकों के साथ बदसलूकी कर रहे कुछ लड़कों को शोहदा कह रहे हैं. कश्मीर की जनता अपने बच्चों के साथ है। उनको आतंकी घोषित करके, गोली मार के कुछ हासिल नहीं होगा। एक युवक मरता है तो हजारों की भीड़ उमड़ती है, यह नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। सोशल मीडिया ट्रायल से और बात बिगड़ेगी ही।
आपको याद है जंतर मंतर? मुझे याद है। हमारी उम्र में पहली बार हमने सुना था कि सरकार जनता की नौकर है। सरकार को गालियां दी जा रही थीं। पुलिस से लोग भिड़ रहे थे, गालियां दे रहे थे, प्रधानमंत्री तक को लोग गालियां दे रहे थे, वह सब जनता का लोकतांत्रिक अधिकार था।
कश्मीर का मामला राजनीतिक है और बेहद जटिल भी। कश्मीरी अलगाववादी अलग देश मांग रहे। यह नहीं स्वीकार हो सकता। लेकिन सड़क पर उतरे कश्मीरी युवाओं को दिल्ली से कोई संबोधित कर रहा है क्या? उन्हें गोली मारकर या आतंकवादी घोषित करके आप उनसे चाहते हैं कि भारत माता के नारे लगाएं तो यह असंभव है।
एक मामले में जवानो ने संयम बरता, काबिलेतारीफ है, लेकिन एक अन्य युवक को गोली भी मार दी गई, जिसके विरोध में पूरा कश्मीर सड़क पर है। एक युवक को जीप में बांधकर 5 घंटे घुमाया गया, यह आपको उचित लग रहा है, लेकिन कश्मीर के भारत समर्थक भी इससे बिदक जाएंगे। दिल्ली का लोकतंत्र कश्मीर जाकर क्रूर हो जाएगा, इससे कुछ हासिल होगा, ऐसा सोचने वाले मूर्ख हैं।
कश्मीर समस्या से हम साठ सत्तर साल से ऐसे ही निपट रहे हैं. हम यहां से ऐसे ही देखते हैं कि जो भारतीय लोकतंत्र से असंतुष्ट है, वह शोहदा है, राष्ट्रद्रोही है, आतंकवादी है. यह नजरिया कश्मीरियों में और नफरत भरता है. आपका वीडियो कश्मीरी भी सुनते होंगे. जब आपके मुंह से अपने लिए वे शोहदा, आतंकी, देशद्रोही सुनते होंगे तो कैसा लगता होगा? क्या जो असंतुष्ट है वह देशद्रोही है?
भारत की सरकारों ने कई दशक तक सत्ता के लिए कश्मीरियों का सम्मान नहीं किया, उनके जनमत का सम्मान नहीं किया. आज भी उनको बातचीत की टेबल पर लाने की कोई पहल नहीं दिख रही। कश्मीर सड़क पर है और देश का प्रधानमंत्री निगम चुनाव में ताकत लगाए है। देश को चलाने और एकजुट बनाये रखने के लिए सिर्फ चुनावी हवस ही काफी होती तो कोई भी इसे विश्वगुरु बना चुका होता।
दुनिया में कोई भी देश, कोई भी हिस्सा, कोई भी जनता बंदूक से एकजुट नहीं की जा सकी है.
काश! भारत के सभी दल मिलकर कश्मीर में ज़्यादा दिलचस्पी लेते और कश्मीरियों को विश्वास में ले पाते. सैनिक बेशक भारत मां का लाल है, लेकिन क्या इसी धरती पर जुर्म में मुब्तला कोई बच्चा भारत मां का लाल नहीं है? खोट कश्मीरियों में होगा, अलगाववादियों में होगा, लेकिन हमारे नजरिये में भी है. जिसे इस बात की तस्दीक करनी हो, वह पडगांवकर की रिपोर्ट और सरकार का नजरिया पढ़—जान सकते हैं.
कश्मीर पर मीडिया जो भी प्रसारित कर रहा है, ऐसा करके वह अलगाववादियों की मदद कर रहा है। यहां से आप जितनी नफरत प्रसारित करेंगे, कश्मीरियों को उतना ही दूर धकेलेंगे। जिन्हें कश्मीर और पाकिस्तान में अंतर करना न आता हो, वे यह कहना छोड़ दें कि कश्मीर हमारा है। कश्मीर हमारा है तो पूरा भारत भी कश्मीरियों का है, जैसे यूपी या बिहार वालों का। उन्हें यह भरोसा दिलाने के सिवा कोई दूसरा चारा नहीं है।Krishna Kant
17 April at 23:36 ·
संघ काहे का हिन्दू है?
■ संघ का गणवेश देखिए। खाकी पैंट (पहले आधा फिर पूरा) सफेद शर्ट। काली टोपी। अब आंख मूंद कर दो मिनट सोचिए। किस हिन्दू धर्मशास्त्र में यह गणवेश लिखा है। जवाब मिलेगा कहीं नहीं।
■ तब सोचिए यह वेश कहां से आया? सर्च कीजिये गूगल या किताबें पलटिये तो पता चलेगा कि खाकी कच्छा और सफेद शर्ट आया हिटलर के यहां से। जबकि काली टोपी मुसोलिनी के सैनिकों का वेश थी। यानी देशभक्ति का दावा करने वालों का गणवेश ही जर्मनी और इटली की खिचड़ी है! फिर काहें के भारतीय और काहें के हिन्दू!
■ अब आइये इनकी शाखा पर। सोचिए किस हिन्दू ग्रंथ में शाखा का वर्णन है। कहीं नहीं मिलेगा। लट्ठ चलाने की प्रैक्टिस को शाखा कहने वाले आपको कभी नहीं बताएंगे कि यह तकनीक भी सीधे जर्मनी से आई है।
■ हिन्दू आदर्शों पर बना आज़ादी के पहले का एक क्रांतिकारी संगठन था अनुशीलन। उसके बारे में तलाशेंगे तो वह आज़ादी की लड़ाई में सक्रिय था। लेकिन संघ आज़ादी की लड़ाई से दूर रहा। जिस राम की बात करते हैं संघी वह कहते हैं – जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी। तो अगर इस आदर्श को मानते संघी तो जन्मभूमि को अंग्रेज़ों की दासता से मुक्त कराने के लिए संघर्ष कर रहे होते। लेकिन वे तो आज़ादी से पहले बस दंगे करा रहे थे। ज़ाहिर है उनका इस आदर्श से कोई लेना देना नहीं।
◆ एक और महान हिन्दू आदर्श है वसुधैव कुटुम्बकम का। इसका अर्थ है पूरी धरती ही अपना परिवार है। सोचिए क्या संघ इस आदर्श को मानता है?
◆ हां बस एक चीज़ मानता है संघ हिन्दू परम्परा की। वह है वर्ण व्यवस्था या जातिवाद। इसलिए उसका सर संघचालक एक राजेन्द्र सिंह को छोड़कर हमेशा उच्च गोत्र के ब्राह्मण होते हैं।
■ तो आप सोचिए क्या आपके लिए भी हिंदुत्व का मतलब केवल जातिपाति बनाये रखना, दलितों पर अत्याचार और धर्म के आधार पर नफरत करना है या “वसुधैव कुटुम्बकम” “सर्वे भवन्तु सुखिनः” और “अहिंसा परमो धर्म:” जैसे उच्च आदर्श आपको बेहतर लगते हैं?
【आंखें न बंद कीजिये। धर्म के नाम पर बेवकूफ़ बनाने वालों को पहचानिए और अपनी महान परम्पराओं को याद कीजिये। धर्म किसी का ठेका नहीं आपकी अपनी परम्परा है। 】
जय हिंद
#InDefenceOfDemocracyKrishna Kant
17 April at 21:37 ·
ईश्वर यानी खुदा सर्वशक्तिमान है। तो आपको अपनी बात सुनाने के लिए लाउड स्पीकर क्यों लगाना पड़ता है? डीजे, माइक, लाउड स्पीकर नहीं था तब इबादत कैसे होती थी? लाउड स्पीकर इंसान का बनाया है। क्या सच मे उसकी मदद से खुदा सुनता है? सच में इंसानी आविष्कार पर निर्भर खुदा सर्वशक्तिमान है? अगर आप ऐसा मानते हैं तो आपके दिमाग मे कुछ लोचा है।
Krishna KantJournalist at The Wire Hindi

19 thoughts on “हैदर रिजवी रेडियो वाले और कृष्णकांत के दोनों के कुछ विचार!

  1. सिकंदर हयात

    हैदर रिज़वी साहब को सेल्यूट किया जाना चाहिए एक तो ये बढ़िया विचार रखते हे लिखते हे (Haider Rizvi
    7 April at 10:11 हालाँकि मेने यहाँ लिखना छोड़ दिया है, लेकिन सिर्फ़ एक बात कहने के लिए इसलिए आना पड़ा…. क्यूँकि मुझे पता है ये अगर मेने यह बात नहि बोली तो कोई और भी नहि बोलेगा…..मेरी अपनी जाति यानी शिया मुस्लिम अपना ईमान बेचकर खा चुकी है….. अगर आप कोई भी मूवमेंट चला रहे हैं, कोई संगठन या संस्था बना रहे हैं तो इनसे बचकर रहें…. आपको इनका इंटेलेक्ट ज़रूर प्रभावित करेगा, लेकिन बिका हुआ इंटेलेक्ट वैश्या के शरीर से भी ज़्यादा गलीज़ होता है.. ( हालाँकि मैं निजी तौर पर वेश्याओं से बिलकुल नफ़रत नहि करता)
    जी सही पहचाना, ये वही क़ौम है जो ख़ुद को मौला अली और हुसैन का मानने वाला बताती है, जिन्होंने इंसानियत के लिए अपनी क़ुरबानी देदी थी, लेकिन मुझे पूरा यक़ीन है की अगर उत्तर भारत और ख़ासकर लखनऊ के शिया करबला में होते तो इमाम हुसैन पर ये दबाव ज़रूर डालते कि यज़ीद के साथ सुलह करलो और मौज करो….. और सुलह न भी करो तो कम से कम अपना कोई मुख़्तार अब्बास या मोहसिंन रज़ा यज़ीद के पास भेज दो जो चाटने में निपुड़ हो……ऐसा नही है की भारतीय शियों ने कोई क़ुरबानी नही दी है… कैफ़ी आज़मी, अली सरदार जाफ़री, सज्जाद ज़हीर, मूनिस रज़ा और राही साहब जैसे दसियों लोग हुए हैं जिन्होंने वक़्त वक़्त पर सरकारों से मोर्चे लिए हैं….. लेकिन उन्हें भी अपनी जाति से बाहर आना पड़ा या जाती ने उन्हें ख़ुद दूर कर दिया…..हो सकता है कुछ शिया मित्रों को यह पोस्ट बुरी लगे कि सुन्नियों के सामने उनकी बेज़्ज़ती हो गयी, तो कोई बात नही वो मित्र हैं भी इसी लायक….. आइंदा मेरे नाम का भी तबर्रा पढ़ लेना कमजरफ़ो….यादवों, कुशवाहाओं, कुर्मियों, शाक्यों, नाऊ तेली, धोबी, जुलाहे वग़ैरह वहैरह …. मैंने लेली … अब तुम भी अपनी अपनी जेबों की तलाशी लेलेना ….. जब तक गाय बन खूँटे से बधे रहोगे ज़बरदस्ती दुहे ही जाओगे…. हैदर रिजवी )———- दूसरी बात इन्होने और बहुत लोगो की तरह खुद के शिया या बरेलवी होने की बात छुपाई नहीं खुल कर अपनी पहचान ज़ाहिर की की वो शिया हे , जैसे में सुन्नी देवबंदी सय्यद हु और अपनी किसी भी पहचान पर ना मुझे कोई स्पेशल गर्व हे ना ही कोई शर्म हे और ना ही मुझे किसी के शिया या बरेलवी या कुछ भी होने से कोई चिढ हे लेकिन अगर आप उदारवादी इस्लाम का प्रचार भी कर रहे तो पहले खुल कर बताइये की आप शिया या बरेलवी बोहरा अहमदी जो भी हे पहले बता तो दीजिये क्योकि एक तो पहले ही काफी मतभेद हे ही इन फिरको के बीच , तो ये टोन नहीं जानी चाहिए इनडायरेक्टली आप उदारवादी इस्लाम की आड़ में अपने फिरके का या फिरके की राजनीती के बड़े खिलाड़ियों का प्रचार तो नहीं कर रहे हे अपनी पहचान बताइये फिर खुल कर उदारवाद का प्रचार कीजिये शुद्ध सेकुलर बनिए में सुन्नी देवबंदी हु मगर कभी इसका प्रचार नहीं करूँगा क्योकि यही शुद्ध सेकुलरिज्म हे और उपमहाद्वीप में यही चाहिए आजकल बहुत से कटटरपंथी नेट पर ये प्रचार कर रहे मुस्लिम लेखकों लेखिकाओं के नाम घुमा रहे हे शियाओ पर तो खुल कर तोहमत लगा रहे हे और ये भी कह रहे हे की ये सब ———हे इससे बेकार में और क्लेश और गंद फैलेगी संघी फौज और मज़बूत होगी गलती कुछ इन उदार लेखकों लेखिकाओं की भी हे की ये खुल कर नहीं बताते हे की ये शिया या बरेलवी आदि हे बताना चाहिए था खेर सोशल मिडिया पर 90 -99 % तो गंद हे और समय की बर्बादी हे हमारी कोशिश रहेगी की जो 1 % अच्छी सामग्री हे उसे ढूंढ कर खबर की खबर के पाठको तक पहुचाये अच्छी सामग्री के अल्वा एक कोशिश ये भी रहेगी की क्योकि ये विभन्न रंग के राइटिस्ट आपस में बहस नहीं करते हे इन सभी से बहस लिबरलों को ही करनी पड़ती हे ये लोग कही आपस में बात बहस नहीं करते हे तो हम कोशिश करेंगे की इन राइटिस्टों की एकतरफा बकवास इस कॉलम में एक जगह एक साथ पेश की जाए जैसे फ़र्ज़ कीजिये जैसे एक राइटिस्ट संजय तिवारी को पहलु खान की मौत पर कोई अफ़सोस नहीं इसे कोई तकलीफ नहीं वही मशाल खान की मौत पर ये ऐसे आंसू बहायेगा की मानो ये कोई ” ईसा मसीह ” हो , वही जगत चचा, मशाल खान की मौत पर सौ किन्तु परन्तु करेंगे और पहलु की मौत को इंटरनेशनल कोर्ट में ले जाना चाहेंगे वहा इनका मानवाधिकार इतना उबलता हे तो ये हे तो ये तिवारी और ये चचा तो आपस में बहस नहीं करते हे तो हम ही कोशिश करेंगे की इन राइटिस्टों के एकतरफा विचार एकजगह रक्खे जाए

    Reply
  2. सिकंदर हयात

    Suresh Chiplunkar
    5 hrs ·
    #Saharanpur
    दलित भाईयों, आपके भगवान आंबेडकर पर तो आपको विश्वास है ना?? उन्हीं को ठीक से पढ़िए, इस्लाम और मिशनरियों के बारे में वे सब लिख गए हैं… “दलित-मुस्लिम एकता” सिर्फ और सिर्फ फर्जीवाड़ा है… यह न कभी हुआ है और न कभी हो सकता है… खुद बाबासाहब आंबेडकर इस बात को अच्छी तरह जानते थे…
    जब आगरा में विहिप के अरुण माहौर (महादलित) को कसाई लोग मार रहे थे, तब तमाम दलित चिन्तक-विचारक सब गायब हो गए थे… कल सहारनपुर में भी यही हुआ…
    दलित बंधु, समय रहते मिशनरी और मलमूत्र निवासियों का खेल समझ लें, इसी में इनकी भलाई है… आगे ईश्वर इच्छा.Suresh Chiplunkar. ———-Krishna Kant
    4 hrs ·
    मैं कह रहा था कि अखिलेश को दंगों का खेल नहीं खेलना चाहिए. अखिलेश इस मामले में बच्चे हैं. जिनको दशकों से दंगे की ट्रेनिंग दी गई है, वे बाज़ी मार ले जाएंगे. देेखिए न! जिंदगी भर सांप्रदायिकता से नफरत करने और उसके खिलाफ आवाज उठाने वाले अंबेडकर की शोभायात्रा में भी दंगा करा लिया गया. अंबेडकर को भी ताजिया, दुर्गामूर्ति और गाय बना दिया. दंगे की राजनीति में वे हमेशा विजेता साबित होंगेKrishna Kant
    29 mins ·
    डेयरी किसान को पीटकर मारने वालों की तुलना शहीद भगत सिंह से हो रही है. डॉ. अंबेडकर के नाम पर दंगा हो रहा है. दंगाइयों को जेड सिक्योरिटी सुरक्षा मिल रही है. धमाका करने वाले जेलों से छूट रहे हैं. सरेआम लात घूंसा चलाने वाले, दंगा करने वालों को पार्टी का प्रवक्ता और अध्यक्ष बनाया जा रहा है. और कैसे अच्छे दिन चाहिए बे देशद्रोहियों?.——-Dilip C Mandal
    5 hrs ·
    सहारनपुर में आंबेडकरवादियों की कोई विवादित शोभा यात्रा नहीं निकली थी. आंबेडकरवादी परंपरा है कि संविधान और नियम तोड़कर कोई काम नहीं करना. वह शोभा यात्रा आरएसएस की थी. नेतृत्व बीजेपी के सासंद राघव लखनपाल शर्मा कर रहे थे, दंगों के पुराने आरोप रहे हैं.
    मीडिया इसे दलितों और मुसलमानों का टकराव बता रहा है. माना कि मीडिया बहुत ताकतवर है और इस समय पूरी तरह RSS के साथ है. लेकिन वह भी नहीं छिपा पा रहा है कि शोभा यात्रा का नेतृत्व शर्मा कर रहे थे,Dilip C Mandal
    5 hrs ·
    बीजेपी ने प्रशासन द्वारा प्रतिबंधित किए गए मार्ग से शोभायात्रा निकालने की शरारत की. पुलिस ने रोका. नहीं माने. मारपीट की. हंगामा किया. इससे आंबेडकरवादियों का क्या लेना-देना. बीजेपी की शोभायात्रा, योगी की पुलिस. निपट लें.Dilip C Mandal
    2 hrs ·
    जब बाबा साहेब ने 22 में से अपनी दूसरी प्रतिज्ञा में कहा था कि मैं राम में आस्था नहीं रखूँगा और न ही उनकी पूजा करूँगा, तो सहारनपुर में बीजेपी की आंबेडकर शोभा यात्रा में जयश्री राम के नारे क्यों लगाए गए। वह भी प्रशासन द्वारा प्रतिबंधित मार्ग पर।
    इस जुलूस का आंबेडकरवादियों से क्या लेना देना। यह बीजेपी सांसद शर्मा जी का शक्ति प्रदर्शन था। इसलिए उन पर मुकदमा हुआ है।Aasmohammad Kaif – Frank Huzur .
    6 hrs · सहारनपुर यहाँ कानून सिसक गया और खद्दर ने गुंडई की
    यह तस्वीर सहारनपुर में सड़क दुधली में अम्बेडकर यात्रा के बाद पनपे तनाव के बाद की है ,गले में माला पहने यह शख्स
    यहाँ के सांसद राघव लखनपाल का भाई राहुल बताया जा रहा है , एक पुलिस अफसर की वर्दी पर इनकी पकड़ देखिये , इनके समर्थको ने कल यहाँ ऐसा तांडव किया कि कानून सहम गया , कमिश्नर की गाड़ी तोड़ी ,एसएसपी आवास पर कब्ज़ा कर लिया , पुलिस कप्तान की नेम प्लेट उखाड़ दी , पुलिसककर्मियो को दौड़ा दौड़ाकर पीटा , मीडियाकर्मियों के कैमरे तोड़ दिए ,छीन कर वीडियो डिलीट कर दी ,एक पत्रकार गौरव मिश्र को बुरी तरह पीटा गया , गाली तो लगभग सभी बड़े पुलिस अफसर को दी गयी , यहाँ के सांसद राघव लखनपाल अपने भाई राहुल को कल भाजपा के टिकट पर शहर से चुनाव लड़वाना चाहते थे ,मगर राजीव गुम्बर लड़े जिन्हें भीतरघात कर हरवा दिया गया ,अब राघव भाई को मेयर बनवाना चाहते है ,सड़क दूधली शहर से सटा गाँव है एसएसपी आवास जहाँ बिलकुल पास में है ,मेरा बहुत बड़ा सवाल यह है कि सहारनपुर के एसएसपी लव कुमार के घर पर उनका परिवार भी था ,घंटो उनके आवास पर अराजकता का राज रहा उनके विरुद्ध नारे लगे ,आवास पर पथराव हुआ ,तोड़फोड़ की कोशिश हुई ,उनकी नेमप्लेट उखाड़ दी गयी ,सांसद उनके निलंबन की मांग को लेकर धरने बैठ गये ,उनकी मौजूदगी में उनके समर्थकों ने यह सब किया ,सवाल यह भी जब गाँव में किसी ख़ास रास्ते से यात्रा निकालने की परंपरा नही थी तो सांसद ने प्रशासनिक अमले के बार बार मना करने और अनुमति न देने के बावजूद जबर्दस्ती वहीँ से यात्रा क्यों निकाली ,एक वीडियो है जिसमें कोई कह रहा है कि अब मुसलमानो को हथियारो से जवाब देना है ,सांसद बराबर में खड़े है और फिलहाल विदेशी पानी की बोतल से गला तर कर रहे है , सहारनपुर के एसएसपी लव कुमार की नियुक्ति चुनाव आयोग ने की थी और वो निष्पक्ष कारवाही के लिए जाने जाते है ,उनके आवास पर सांसद समर्थको के हमले से एक अजीब सी डर उनके परिवार में भी पहुंच गया होगा , सांसद पुलिस से इसलिये नाराज थे क्योंकि पुलिस उनकी इच्छानुसार एक ख़ास समुदाय के लोगो को कुचला नही , पुलिस उनका खिलौना नही बनी , सांसद खुद तो इंसान बन नही रहे थे पुलिस से भी चाहते थे कि वो शैतान बन जाए , लेकिन
    पुलिस ने दोनों पक्षो पर बराबर लाठी भांजी ,यह निष्पक्षता सांसद को चुभ गयी , यह तस्वीर देखकर आप समझ जाएंगे की साँसद के भाई ने जब यह कर रहे है तो उनके गुंडे क्या कर रहे होंगे , सांसद के दिवंगत पिता भी यहाँ से विधायक रहे है मगर सर्वधर्म समभाव में उनकी भूमिका हमेशा बेहतर रही ,मगर सांसद अपनी ही पार्टी की सरकार में खुद को लाशो के ढेर पर खुद को नामनिहाद हिंदुत्व का नायक साबित करने पर तुले है ,पिछले कुछ दिनों में एक माह पुरे करने वाली योगी आदित्यनाथ की नेतृत्व वाली भाजपा की सूबाई सरकार ने मुसलमानो में भाजपा की छवि बेहतर की है ,सरकार के सभी फैसले निष्पक्ष और सराहनीय रहे है ,मुख्यमंत्री योगी मुसलमानो में लोकप्रिय हुए है ,कानून व्यवस्था को लेकर पूर्व की सरकार काफी आलोचना झेल चुकी है ,भाजपा सरकार की कानून व्यवस्था पार्थमिक्ताओ में है ,मगर सहारनपुर की घटना ने पार्टी के ही सांसद ने सरकार पर सवाल खड़े कर दिए है , सड़कों पर नगा नाच हुआ है , कमिश्नर की गाड़ी तोड़ दी गयी ,डीएम सहमे रहे , खाकी बेइज्जत हुई ,ऐसे में सरकार के इकबाल की तो बात मत कीजिये ।

    Reply
  3. सिकंदर हयात

    पाठको , केजरीवाल जी कब तक ढोइएगा इस विभीषण ——— को लेख से नाराज़ होकर नागपुर से राइटिस्टों ने दो बार ना केवल साइट को हैक किया बल्कि बहुत सारे लेख और कमेंट तक वायरस डाल कर उड़ा दिए हे अब साइट आठ दिन पुराने स्टेट्स पर हे में समझता हु की विभीषण वाला लेख तो सिर्फ एक बहाना था असल में ये साइट जिस तरह से हिन्दूमुस्लिम राइटिस्टों की पोल खोलती हे इनकी अंदुरुनी साठ गाँठ इनका करप्शन और जुल्म उजागर करती हे हिन्दू मुस्लिम साम्प्रदायिकता कठमुल्लावाद की बिना किसी एक इंच भी भेदभाव के निंदा करती हे बाकी लोग एक साम्पर्दस्यीक्ता की निंदा करते हे दूसरे का बचाव करते हे हमने पहली बार ये सोच दी की इन दोनों की हि जड़ो में मट्ठा डालना हे इसी नयी सोच उससे ये लोग बोखला गए हे वो भी तब जबकि अभी तो साइट की लोकप्रियता भी नहीं हे अभी तो हज़ार के करीब ही परमानेंट विजिटर होंगे तब भी हम इन राइटिस्टों की आँखों में इतना खटक रहे हे की रविश कुमार जिनके की पैर के अंगूठे जितना भी हमारा कद नहीं हे उनके क़स्बा के बाद शायद सिर्फ इसी साइट को राइटिस्ट हैकरों ने निशाना बनाया हे अगर फ़र्ज़ कीजिये हम भी औरो की तरह सिर्फ संघी राइटिस्टों के खिलाफ होते तो शायद हम इतना ना खटकते क्योकि इन्हे पता हे की एकतरफा हमलो से इन्हे उल्टा सिम्पेथी भी मिल जाती हे लेकिन हम लोग क्योकि हिन्दू मुस्लिम राइटिस्टों की हमेशा एक साथ पोल खोलते हे उन्हें पता हे की ये वाली टोन कल को अगर फैली अगर ये सोच लोकप्रिय हुई तो इनकी जड़े खोद देगी इसलिए हमें टारगेट किया जा रहा हे उन पाठको से अपील हे जिनके कमेंट हैकरों ने उड़ा दिए हे की अगर सेव हो तो फिर से कमेंट डाल दे शुक्रिया और ” वो लेख ” रविश कुमार के ब्लॉग पर कमेंट में डाल दिया हे पाठक उसे वहा पढ़ सकते हे शुक्रिया

    Reply
    1. RAJKHYD

      नागपुर वालो ने साईट उडाई इसका सबुत क्या है ?

      Reply
      1. सिकंदर हयात

        जिस लेख को इतनी अच्छी ” टी आर पि ” मिल रही थी उसे भला क्यों हटाया जाता हे हैकर जान को आ गए थे वार्ना क्यों हटाते———- ? संपादक अफ़ज़ल भाई को क्या पड़ी जो एक आजकल गर्म मुद्दे वाले और ” टी आर पि ” देने वाले लेख को हटाते जिसमे कोई आपत्तिजनक बात भी नहीं थी , हो तो क़स्बा – कमेंट में पेस्ट कर रखा हे आप देख कर वो आपत्तिजनक लाइन दिखा दीजिये ——— ? आप नहीं जानते की सोशल मिडिया वाट्सअप अदि के ज़माने में लोगो को हिंदी साइट्स या प्रिंट पर लाना किस कदर मुश्किल काम हो रहा हे —————– ? इस हालात में विभन्न राइटिस्ट प्रोपगंडेबाज़ो निहित स्वार्थी तत्वों , पी आर वालो के तो मज़े हि मज़े हे मगर खासकर हिंदी लेखकों पत्रकारों विचारको का सांस लेना भी कठिन होता जा रहा हे सोशल मिडिया पर देखिये की अच्छे अच्छे लेखकों को पढ़ने वाला कोई नहीं हे बड़े बड़े इज़्ज़तदार लेखक बुढ़ापे में शर्माते हुए लाइक मांगते हे पर कोई पूछने वाला नहीं हे उधर एक संघी साम्प्रदायिकता का दहकता हुआ जवालामुखी भोकाल चतुर्वेदी ही शायद शायद , एक हिज़ाब वाली 16 साल की मुस्लिम लड़की का भेस बनाकर भाजपा संघ समर्थक बाते लिखता हे वो भी बहुत कम और साधारण , वहा पब्लिक टूट टूटकर पड़ती हे और हज़ारो उदहारण हे

        Reply
        1. सिकंदर हयात

          Jolly bahadur to – सिकंदर हयात • a day ago
          Sikander Hayat, humility is a rare and noble quality but please do not compare the articles on your site to any other and consider them to be inferior, in any way. I read the writeups on the said site frequently and they are logical and well articulated. The number of followers will surely increase , very soon. Do not lose heart when faced with hurdles such as hacking as alas! this is the bane of modern technology.
          Our society is in a dilapidated condition and needs to be rebuilt afresh. We need people who can speak their minds fearlessly and help others find their way through the darkness which is enveloping our country.. ..so keep up the good work!.
          Godspeed!
          सिकंदर हयात to Jolly bahadur • a day ago
          जॉली जी में अपने लिए परेशान या दुखी नहीं हु में तो हज़ारो और लेख लिख दूंगा मुझे दुःख इस बात का हुआ की इस साइट पर जाकिर हुसैन भाई एक आईआई टीयन , जैसे महाविद्वान आदमी ने जाने कैसे कैसे समय निकाल कर , इतना बेहतरीन लेखन कमेंट बॉक्स में लिख रखा हे जो जैसे जैसे पढ़ा जाएगा समाज के बहुत काम आएगा राइटिस्टों की जड़े हिला देगा ऐसा बेहतरीन लेखन और मेने कही नहीं देखा , अब फोन आ रहे हे की वीभिषण विश्वास वाला लेख हटाओ नहीं तो पूरी साइट तहस नहस कर देंगे इसलिए परेशान था और कोई बात नहीं हे बाकी राइटिस्ट हमें चाहे जो नुकसान पंहुचा भी देंगे हम फिर से खड़े हो जाएंगे
          Jolly bahadur to सिकंदर हयात • 21 hours ago
          I can understand how disheartening it must be to build something with sweat and pain only to have it threatened with ruin by a few misguided persons, with a not-so-innocent agenda. It would also be very taxing to re-post an article. Perhaps you could lodge a complaint with the cyber crime cell? Do you think that would help in any way?
          Keep up this never say die attitude!
          सिकंदर हयात to Jolly bahadur • 20 hours ago
          जॉली जी अगर आपने हमें पहले से पढ़ा हो तो मेने कई बार लिखा हे की इस पूरी दुनिया में एक शुद्ध सेकुलर लिबरल भारतीय मुस्लिम वो भी सुन्नी वो भी देवबंदी ( शियाओ और बरेलवियो को फिर भी वहाबिज्म से लड़ने के नाम पर अपने यहाँ सपोर्ट मिलता हो सकता हे इसलिए सारी छोटी बड़ी लिबरल मुस्लिम वोइस सब या तो शिया होंगी या बरेलवी चेक करे ) हमसे ज़्यादा अकेला और थकेला कोई जीव नहीं हे हमारे लिए कोई भी लड़ाई फ़िलहाल असम्भव हे क्योकि हर लड़ाई के लिए कुछ ना कुछ सपोर्ट तो चाहिए होता ही हे हर किसी के पास किसी ना किसी का सपोर्ट तो होता ही हे हमारे लिए नहीं हे इसलिए हमें अंडर ग्राउंड सा होकर ही काम करना पड़ता हे यु समझिये की मेरे सोशल सर्किल एक से बढ़ कर एक काबिल मुस्लिम्स हे मगर में किसी को अपने काम के बारे में नहीं बता सकता हु क्योकि बात फैलने पर सपोर्ट मिले ना मिले पिटने या विरोध की गारंटी हे इसलिए हम फ़िलहाल ना खुल कर अपना प्रचार कर सकते ना किसी से भिड़ सकते हे हां बस चुपचाप लिख सकते हे लिख ही रहे थे तब ही लिखते लिखते लिखते ही नेट पर अफ़ज़ल भाई दुबई और जाकिर भाई मुंबई जैसे साथी मिले तो उम्मीद हे की आगे भी धीरे धीरे चुपचाप लोग मिलते रहेंगे फिर सही समय पर खुल कर काम और बात होगी तब इन राइटिस्टों को देख लेंगे
          Jolly bahadur to सिकंदर हयात • 20 hours ago
          It is hard to wait for something you know might not happen but it is even harder to give up when you know it is everything you want.
          So, chin up and all the best in your endeavours!

          kamal to सिकंदर हयात • 16 hours ago
          haan bhai ,tum bilkul durust likhtey ho…khuda ke baad dusra number aapka hi hai…apni bato ka saboot le kar aana…

          सिकंदर हयात to kamal • 4 hours ago
          जिस लेख को इतनी अच्छी ” टी आर पि ” मिल रही थी उसे भला क्यों हटाया जाता हे हैकर जान को आ गए थे वार्ना क्यों हटाते———- ? संपादक अफ़ज़ल भाई को क्या पड़ी थी जो एक आजकल गर्म मुद्दे वाले और ” टी आर पि ” देने वाले लेख को हटाते , जिसमे कोई आपत्तिजनक बात भी नहीं थी , हो तो यही पेस्ट कर रखा हे आप देख कर वो आपत्तिजनक लाइन दिखा दीजिये ——— ? आप नहीं जानते की सोशल मिडिया वाट्सअप अदि के ज़माने में लोगो को हिंदी साइट्स या प्रिंट पर लाना किस कदर मुश्किल काम हो रहा हे —————– ? इस हालात में विभन्न राइटिस्ट प्रोपगंडे बाज़ो के तो मज़े हे मगर लेखकों पत्रकारों विचारको का सांस लेना भी कठिन होता जा रहा हे सोशल मिडिया पर देखिये की अच्छे अच्छे लेखकों को पढ़ने वाला कोई नहीं हे बड़े बड़े इज़्ज़तदार लेखक बुढ़ापे में शर्माते हुए लाइक मांगते हे पर कोई पूछने वाला नहीं हे उधर एक संघी साम्प्रदायिकता का दहकता हुआ जवालामुखी भोकाल चतुर्वेदी , एक हिज़ाब वाली 16 साल की मुस्लिम लड़की का भेस बनाकर भाजपा संघ समर्थक बाते लिखता हे वहा पब्लिक टूट कर पड़ती हे और हज़ारो उदहारण हे

          Reply
  4. ramesh kumar

    अच्छा लेख था मेने भी कमेंट किया था , आज सदेखा तो लेख गायब था , अभी कमेंट से सिकंदर हयात के द्वारा मालूम हुआ के साइट हैक किया गया ही मगर क्यों !

    Reply
  5. सिकंदर हयात

    नॉन राइटिस्टों के छोड़ कर और ये काम कौन करता हे राज़ साहब——————-? , रमेश जी लेख एक बार नहीं दो बार उड़ाया गया बार बार ”खबर की खबर ” साइट को हैक किया जा रहा हे फोन करके कहा जा रहा हे की अगर ये कुमार विश्वास वाला लेख नहीं हटाया तो पूरी साइट बर्बाद कर देंगे हम लोगो ने बड़ी मेहनत से पढ़ने लायक सामग्री जुटाई थी ——– ? मुझे ये कुमार विश्वास के गेंग का काम बिलकुल नहीं लगता हे विश्वास चाहे जितने इरिटेटिंग हो वो लोग ये काम नहीं कर सकते हे कोई गुंडे नहीं हे . ये गुंडागर्दी कौन लोग करते हे सब जानते ही हे खुद महापरूषो का हाथ इनके सर पर बताया जाता हे और रमेश जी लेखो का उड़ाए जाने मुझे इतना दुःख नहीं हे जब तक जिन्दा हे ऐसे हज़ारो लेख लिख देंगे अब जो अगला लेख लिखा हे” गाय गौ रक्षा -छात्र मदरसा कुछ नहीं हो सकता ” वो इन राइटिस्टों को और तपायेगा मुझे लेखो के उड़ने का दुःख नहीं हे मुझे अधिक तकलीफ इस बात की हो रही हे की आप पाठको के कमेंट भी हैक करके उड़ा दिए हे आजकल हज़ारो हिंदी साइट आ रही हे बहुत ही कम पर कमेंट या बहस दिखती हे बहुत ही कम , यु समंझ लीजिये की बस रविश की साइट और खबर की खबर इसके अलावा कही और अब कमेंट या फिर कोई बहस नहीं हे इसलिए मुझे खबर की खबर के पाठको के कमेंट उड़ाए जाने का बहुत दुःख हे

    Reply
  6. सिकंदर हयात

    नागर जी की साइट कभी बहस का गढ़ हुआ करती थी अब वहा भी कोई बहस नहीं हे दो चार छुटभय्ये राइटिस्ट जरूर बकार बकार करते हे मगर बहस नहीं हे आज की तारीख में बहुत हिंदी साइट्स आ रही हे मगर चल नहीं पा रही हे मार्किट नहीं पकड़ पा रही हे आज प्रिंट का पतन हे चेनेल सिरदर्दी हे और सबसे अधिक पाठक सोशल मिडिया पर हे पर इससे एक तो लेखकों पत्रकारों विचारको की कोई कमाई नहीं हे कमाई हो रही हे जुकेरबर्ग की और सहवाग जैसे ——- की , और ” गुफाओ ” में बैठे विभन्न आकार प्रकार और भार के राइटिस्ट प्रोपेगड़ेबाज़ो की , ये बहुत ही खतरनाक इस्तिथि हे ऐसे में विभन्न हिंदी साइट्स का चलना बहुत जरुरी हो गया हे हमारी भी यही कोशिश हे की साइट्स चले सिर्फ हमारी नहीं बल्कि सभी अच्छी साइट्स चले क्योकि साइट्स पे तो फिर भी पब्लिक को फंसाया और बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता हे क्योकि जवाबदारी रहती हे ये फसाये जाने का काम सोशल मिडिया वाट्सअप पर बहुत हो रहा हे सिर्फ अच्छी और वैचारिक साइट्स ही लोगो को सोशल मिडिया और वाट्सअप पर मुर्ख बनाने के चक्रव्यूह का तोड़ हो सकती हे

    Reply
  7. सिकंदर हयात

    आखिर संघी फौज केजरीवाल से इतना खौफ क्यों खाती हे ये भाजपाई बेनामी वाले नहीं खुलेआम केजरीवाल को क्या क्या नहीं बकते हे शायद भाजपा का एक पेड़ कार्टूनिस्ट जो खुद देखने में सेम किसी गेंडे का कार्टून लगता हे वो रोज केजरीवाल के अश्लील कार्टून बनाता हे जिसका दस % भी कोई मोदी का बना दे तो जाने क्या होगा ——- ? लेकिन वही बात की इन राइटिस्टों को तो कोई डर हे नहीं इन्हे पता हे की लिबरल्स मारेंगे तो हे नहीं विरोध ही करेंगे सरकार , पैसा और गुंडों की फौज इनकी हे ही विरोध से मिली पब्लिसिटी से ये और हीरो बन जाएंगे चर्चा पा जाएंगे यही इन सबका हिस्टीरिया भी बन गया हे खेर ये हमेशा केजरीवाल को ऐसे बताते हे मानो केजरीवाल कोई हाफिज सईद विजय माल्या ललित मोदी लालू मुलायम आदि का कोई मिश्रण हो ——— ? जबकि केजरीवाल की आप की तो ना तो कोई खास पावर अभी हे ना इन्होने ऐसा कुछ गलत अभी तक किया हे फिर क्यों ये केजरीवाल के इतने खिलाफ हे की केजरीवाल को सही सलाह देते हुए हमने एक लेख क्या लिख दिया गुफाओ में बैठी राइटिस्ट आर्मी ”खबर की खबर की खून की प्यासी ” हो गयी इसलिए कुछ भी हो जाए हमने केजरीवाल का साथ छोड़ना नहीं हे Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna
    26 April at 12:54 ·
    दिल्ली म्युनस्पलिटी के चुनावों में केजरीवाल की हार को लेकर चतुर्दिक उल्लास और संतोष का वातावरण है , मानो केजरीवाल ही इस देश की सबसे प्रमुख समस्या हो । मेरी राजनीति और राजनेताओं में न्यूनतम रूचि है । यह विषय देशाटन , संगीत , अध्यापन , बाइकिंग , पोर्नोग्राफी , शराब पीना , पढ़ना और लिखना , भोजन बनाना इत्यादि मेरी प्रमुख रुचियों के बाद कहीँ आठवें- दसवें नम्बर पर आता है । अरविन्द केजरीवाल को न मैं कभी मिला हूँ , न उसे ज़्यादा जानता हूँ ।
    लेकिन केजरीवाल को लेकर कभी भ्रष्टाचार और सम्प्रदायिकता की शिकायत नहीं आयी , जो आज राजनीति की प्रमुख व्याधियां हैं । फिर भी उनकी हार पर अधिसंख्य लोग फूले नहीं समा रहे । कहीं ऐसा तो नहीं कि हम मतदाता अथवा समाज के रूप में समवेत रूप से शनैः शनैः साम्प्रदायिक और भ्रष्ट होते जा रहे हों ।Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna
    26 April at 19:56 ·
    विगत दिनों राष्ट्र अनेक सुख – दुखों से गुज़रा , पर राजर्षि अन्ना जी अन्य मनस्क ही रहे , उनका मौन न टूटा । प्रतीत होता था कि वह सांसारिक हानि , लाभ , जीवन , मरण , यश , अपयश से ऊपर उठ सूक्ष्म में प्रवेश कर चुके हैं । आज दिल्ली नगर पालिका का रिजल्ट क्या आया , कि अन्ना जी की वाचा फूट पड़ी । मानो महा प्रलय में भी समाधिस्थ ब्रह्म देव् की योग तन्द्रा एक गिलास के टूटने की आवाज़ से उचट गयी हो । ईश्वर किसी धवल वस्त्र धारी को अपने वस्त्र विन्यास के सदृश धवल छवि दे , तो उसे विचार शून्य न बनाये ।Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna
    27 April at 10:13 ·
    म्युनस्पलिटी चुनाव में केजरीवाल की हार से देश भर में राहत और ख़ुशी की लहर । क्योंकि इस चुनाव में सिर्फ केजरीवाल हारा है , बाक़ी के कोंग्रेस , सपा , बसपा , रालोद , समता ममता और कोई नहीं हारा । इस चुनाव में केजरीवाल की करारी हार हुयी । बाकियों की हार में वह करारापन नहीं है । उसे अपने कर्मों का फल मिला , क्योंकि झूठ बोलता है और वादे पूरे नहीं करता । शेष सभी पार्टियां अब तक अपने शत प्रतिशत वादे पूरे करती आयी हैं । चुनाव लड़ने बनारस , पंजाब , गोआ आदि चला जाता है । शेष तो गऊ की तरह अपने खूंटे से बंधे हैं । कहीं और झांकते भी नहीं । उसे अन्ना का श्राप लग गया । अन्ना बड़ा तपस्वी है । हज़ारों मील दूर से श्राप देकर किसी को म्युनस्पलिटी के वार्डों में चुनाव हरा देता है , लेकिन जब अपने गृह राज्य के महानगर मुम्बई में रैली करता तो 350 लोग जुटते । आतंक , नक्सली , मंहगाई , रोज़गार वगैरह समस्याएं चुटकी में हल हो जाएंगी । बस केजरीवाल का खाँसना और मफलर पहनना देश की सबसे बड़ी समस्या है । पहले यह हल हो । सबको जी लगा कर क्यों सम्बोधित करता , अबे तबे कह कर क्यों नहीं दुत्कारता ,अथवा रायजादा , साहबजादा कह कर मज़ाक क्यों नहीं उड़ाता ।Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna
    26 April at 07:29 ·
    आश्चर्य होता है , जब मैं ख़ास कर अपने प्रदेश उत्तराखण्ड में कांग्रेस नेताओं में 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए हिलोरें मारते देखता हूँ । मैं विधान सभा चुनाव से पूर्व लिखी अपनी उस पोस्ट पर कायम हूँ कि प्रदेश से कांग्रेस की विदाई कम से कम 25 वर्ष के लिए हुयी है । इससे पहले पंचायत एवं निकाय चुनावों की छिट पुट जीत के सिवा किसी अन्य चुनाव के बारे में सोचना भी नहीं चाहिए । ये 25 साल कांग्रेस गांधी जी के अनुरूप रचनात्मक कार्यों में गुज़ारे । सुझाव इस प्रकार हैं :-
    1:- जिन गांवों और बस्तियों में शौचालय नहीं हैं , वहां जाकर मैला साफ़ करें , जैसा कि गांधी जी करते थे ।
    2:- खादी पहनने का संकल्प लें , और नियमित चरखा कातें , जैसा कि गांधी जी करते थे ।
    3:- अपने दौरों के समय बड़े कांग्रेस नेता किसी स्वीपर के घर ठहरें , न कि डाक बंगला में , जैसा कि गांधी जी करते थे ।
    4:- पाप की कमाई से बने अपने विशालकाय भवन पार्टी कार्य के लिए दान दे दें । स्वयं पार्टी ऑफिस के एक कमरे में रहें , जैसा कि मोती लाल नेहरू जी ने किया ।
    5:- पार्टी के बड़े नेता स्थायी रूप से पहाड़ के किसी 1 गांव में जा बसे , और वहां शिक्षा , स्वास्थ्य , ग्राम स्वराज्य आदि का कार्य करें ।
    6:- अधिक से अधिक पैदल चलें , एवम अहिंसा , सत्य , अस्तेय , असंग्रह , शरीर श्रम , आस्वाद व्रतों का पालन करें , रेल के दूसरे दर्जे में सफर करें , जैसा कि गांधी जी करते थे ।
    7:- कुष्ठ रोगियों की सेवा अपने हाथ से करें , उनके ज़ख्म धोएं , जैसा कि गांधी जी करते थे ।
    8:- गांधी जी ने अपना मुख्यालय कभी भी दिल्ली नहीं बनाया , अपितु एक पिछड़े गांव सेवा ग्राम में रखा , आप भी किसी गांव में ठौर जमाये ।
    9:- साठ वर्ष से ऊपर के नेता सेवा कार्य में जुटे , एवम चुनाव आदि लड़ने का जिम्मा युवकों को सौंपे , जैसा के कामराज ने योजना लागू की थी ।
    10:- क्रोध पर विजय पाएं , तथा कल्याणकारी सुझाओं पर चिढ कर रि एक्ट न करें ।
    तभी खनन , डेनिस एवम असत्य भाषण का पातक धुलेगा ।Raj Kishore
    7 hrs ·
    प्रधानमंत्री की प्यास : दस करोड़ का पानी और जूस पी गये
    An RTI inquiry filed by Junta Ka Reporter has been answered by the Prime Minister’s Office. We had asked the PMO to tell us the amount of money that was spent on buying fruit juices and mineral waters by the Union Government during the Navratri days ever since BJP came to power.
    We received the answer from the PMO and the stats were shocking. A whopping ten crore nine lakh twenty eight thousand and forty five rupees were spent by the union government just on buying mineral water and fruit juices.
    (स्रोत : जनता का रिपोर्टर)
    link: http://www.juntakareporter.com/…/rti-query-reveals-pm-modi…/
    See TranslationRaj Kishore
    29 April at 22:04 ·
    केजरीवाल बहुत बुरा नेता है उसने जनता से किया कोई वादा पूरा नहीं किया,
    मोदी जी ने सारे वादे पूरे किये_
    केजरीवाल ने WIFI का वादा पूरा नही किया
    मोदी जी ने पूरे देश को डिजिटल इंडिया बना दिया
    केजरीवाल ने ढंग के मुहल्ला क्लीनिक नहीं खोले,
    मोदी जी ने गाँव गाँव में AIMS खुलवा दिए
    केजरीवाल ने मुफ़्त बिजली, पानी नहीं दिया
    मोदी जी ने 15 लाख रूपये लोगों के खातों में जमा करवा दिए
    केजरीवाल ने odd, even करके नौटंकी की
    मोदी जी की नोटबंदी से भारत को बहुत लाभ हुआ
    केजरीवाल दिल्ली से भ्रष्टाचार नही मिटा पाया,
    मोदी जी ने सारा काला धन वापस ला दिया
    केजरीवाल सरकारी पैसे से अपनी छवि चमकाता रहा,
    मोदी जी ने 11 अरब रूपये जो अपने प्रचार पर खर्च किये वो जनता के हित में किया
    केज़रीवाल अपना काम छोड़ चुनाव व पार्टी प्रचार में गोवा पंजाब में घूमता रहा,
    मोदी जी जो चुनावी रैली करते हैं और बनारस की गलियों में घूमें वो जनता से संवाद था
    केजरीवाल ने दिल्ली में कुछ नही किया लेकिन दिल्ली की MCD पर जो दस साल से बीजेपी क़ाबिज़ थी उसने बहुत ईमानदारी से काम किया
    वो बात अलग है मोदी सरकार तीन साल की हो गयी जबकि केजरीवाल सरकार केवल दो साल की है
    इसलिये आपने केजरीवाल को सबक सिखाया_
    साफ़ साफ़ क्यों नही कहते कि तुम्हें_
    जुमले,फरेबी ख्वाब,भ्रम,
    ढोंग ज्यादा पसंद है….
    केज़रीवाल ने भी हिन्दू, मुस्लिम, गाय, गौबर, गौ मूत्र किया होता तो आज वो भी हिन्दू हृदय सम्राट होता_
    *ढोंगी जनता का ईमानदारी का ढकोसला राजकिशोर —————————-Mukesh Tyagi
    हिंदु ‘राष्ट्रवादीद्वारा मुस्लिम ‘राष्ट्रवादी’ का स्वागत
    सेकुलर तुर्की को इस्लामिक मुल्क बनाने में लगे अरदुआं (Erdogan) आज दिल्ली पधार रहे हैं; हिंदू राष्ट्र आकांक्षी नरेंद्र मोदी उनका इंतज़ार कर रहे हैं! जामिया मिलिया इस्लामिया उनको डॉक्टरेट की डिग्री भी देगा| डॉक्टरेट बनती भी है – एक लाख से ज़्यादा प्रोफ़ेसर, छात्र, डॉक्टर, पत्रकार, साहित्यकार, मजदूर संगठनकर्ता, वकील, कम्युनिस्ट, मानव अधिकार कार्यकर्त्ता, आदि जेल की सलाखों के पीछे पहुँचाये जा चुके हैं; 2099 शिक्षण संस्थान बंद किये गए हैं| 7317 प्रोफ़ेसर नौकरियाँ गँवा चुके हैं, 2824 छात्र कार्यकर्त्ता जेल में हैं| बहुत के ऊपर राष्ट्रद्रोह और आतंकवाद के आरोप लगाये गये हैं| बहुत से नौकरी गँवाये शिक्षक खुले में क्लास ले रहे हैं| कुर्द जो अपना स्वायत्त राज्य चाहते हैं उनके ऊपर तो फौजी अत्याचार जारी है ही|
    मोदी भी भारत में ऐसे बहुत से काम करना चाहते हैं, कोशिश में लगे हैं; अरदुआं से और गुर सीखेंगे – ‘इतने कॉलेज/विवि कैसे बंद कराये, गुरू? हम तो अभी एक JNU पे ही अटके हैं!’ कश्मीर, छत्तीसगढ़, उत्तर-पूर्व पर भी शायद अरदुआं का तजुर्बे भरा मशविरा लें!
    अरदुआं तुर्की में शरिया क़ानून भी लाना चाहते हैं, पर्दा समर्थक हैं, स्त्रियों को घर की चौहद्दी में वापस भेजने के भी हिमायती हैं, शायद आगे तीन तलाक़ भी वापस लायें! यह भी याद रहे कि ISIS का पेट्रोलियम तुर्की के जरिये ही बिकता है जिससे वह हथियार खरीदता है| इसलिये जामिया भी इस्लाम की सेवाओं के लिए इन्हें डॉक्टरेट देगा, मोदी की भारत सरकार भी इस पर रजामंद है| जामिया के इस्लामी कट्टरपंथी तत्व भी खुश हैं, कुछ विरोध करने वालों को इस्लाम विरोधी की सनद भी मिल गई है, जो स्त्रियाँ हैं उन्हें ‘अलंकारों’ से भी नवाज़ा जा रहा है|
    लब्बो-लुआब ये कि अरदुआं के स्वागत में हिंदुत्ववादी और इस्लामी कट्टरपंथी दोनों ‘भाईचारा’ निभाने के लिए एकजुट हो गये हैं!
    इसमें ‘भाई’ ये दोनों कट्टरपंथी हैं और ‘चारा’ मुल्क की मेहनतकश आबादी है|Shamshad Elahee Shams
    14 hrs · Brampton, ON, Canada ·
    शासक वर्ग की दुर्लभ एकता- एक लीचड़ हिन्दू सम्राट दूसरा बकलोल मुसलमान सुलतान ( तुर्की का एरोद्गान ) – एक ने कुर्दों, लिब्रल्स,पत्रकारों, प्रगतिशील तबके की अपने मुल्क में ऐसी तैसी कर रखी है दूसरे ने कश्मीर, छत्तीसगढ़, उत्तर पूर्व में फ़ौजी दरिंदगी की नई इबारत लिखी है और देश में भीतर गौ भक्तों (पशु पुत्रों) के आतंक से मुसलमानों पर कहर बरपा रखा है.
    हिन्दू सम्राट और मुसलमान सुलतान की एकता का ग्रहण काल ठीक मई दिवस पर दिल्ली में दिखेगा-दीदार कीजिये.

    Reply
  8. सिकंदर हयात

    Sanjay Tiwari
    2 hrs ·
    जिन दिनों अन्ना आंदोलन चरम पर था उस समय बाबा रामदेव भी रोज जंतर मंतर से रामलीला मैदान की दौड़ लगा रहे थे। पहले केजरीवाल के साथ साथ फिर अपना रास्ता अलग कर लिया। अकेले देश बदलने के लिए आगे निकल पड़े और सलवार पहनकर भागना पड़ा। इसी बीच एक बार वो दल बल सहित जंतर मंतर पर आये। वहां केजरीवाल उनके मंच से उतरकर चले गये थे। उस वक्त मैं भी वहीं था। मैने देखा रामदेव तो आंदोलन की आड़ में कुछ और ही खेल कर रहे हैं। वो अपना बिजनेस नेटवर्क बढ़ा रहे हैं।
    वो जिस गांव गांव आंदोलन ले जाने की बात कर रहे थे, असल में वो गांव गांव तक अपना डिस्ट्रीब्यूटर नेटवर्क तैयार कर रहे थे। इससे जुड़े हुए पम्फलेट वहां बांटे जा रहे थे, लोगों को बाबा रामदेव समझा रहे थे कि कैसे राजनीतिक स्वावलंबन से पहले आर्थिक स्वावलंबन जरूरी है। लौटकर मैंने जो देखा था वो लिख दिया। राष्ट्ररोगियों की भरपेट गालियां मिलीं।
    खैर तीन चार साल में ही वह सच सामने आ गया कि रामदेव असल में धंधा ही करना चाहते थे। योग और आंदोलन ये सब उनके बहाने थे। इसलिए मैं बाबा रामदेव को एक योगी या आंदोलनकारी के रूप में कभी नहीं देखता। मैने हमेशा उनको एक बिजनेसमैन के रूप में ही देखा है। एक ऐसे बिजनेसमैन के रूप में जो घटिया दर्जे का प्रोडक्ट तो बनाता है लेकिन आला दर्जे का बनाकर बेच भी लेता है। उनकी दवाइयां खा लें तो आपका आयुर्वेद से ही भरोसा उठ जाएगा। खाने पीने की चीजें भी कुछ नरम कुछ गरम हैं। फिर भी बाबा इतना काबिल बिजनेसमैन है कि धंधा लगातार बढ़ रहा है।
    यह तब तक बढ़ता रहेगा जब तक रामदेव का मार्केट है। जिस दिन गिरेगा एक झटके में सब खत्म हो जाएगा।Sanjay तिवारी
    ————Prakash Govind
    1 hr · ‘बाबा रामदेव’ ने बताया कि वे अपना मुनाफा चैरिटी मैं देते हैं।
    लेकिन उन्होने ये नहीं बताया कि ‘पतंजलि’ के दस हजार करोड़ के टर्न ओवर का मुनाफा, मात्र सैनिक स्कूल की स्थापना और कुछ शहीदों को दो लाख रुपैया दिये जाने भर ही है ?चैरिटी का मतलब जानना हो तो ‘विप्रो’ के अजीम प्रेमजी, ‘वेदांता’ के अनिल अग्रवाल, ‘इन्फोसिस’ के नन्दन नीलेकणी, ‘महेन्द्रा एंड महेंद्र’ के आनंद महिंद्रा, ‘इन्फोसिस टेक्नोलोजी’ के नारायन मूर्ति, ‘शेयर कारोबारी’ राकेश झुनझुनवाला को गूगल करके देखें ……क्या बाबा की चैरिटी इनके बाल बराबर भी है ……. ?और बाबा के चेलों ये भी जान लो कि ये सब के सब स्वदेशी हैं। अनिल अग्रवाल ने तो विदेशों में कमा कर भारत मैं दान किया है……
    इनमें कोई भी बाबा की तरह मजमा और सर्कस नहीं लगाते ना ही फेरी वालों की तरह दिन भर ‘लेलो .. लेलो की आवाज लगाते हैं …… और ना ही हर समय राष्ट्रभक्ति की मोनोपोली वाला लाइसेन्स हाथ मैं लिए बार बार दिखाते हैं……
    .(गिरधारी लाल गोयल जी की वाल से)Neelima Singh मोदी जी और अटल जी में यही बुनियादी अन्तर है ।यद्यपि दोनों ही संघ के प्रचारक रहे हैं, किन्तु जब अटल जी प्रधान मन्त्री बने तो उन्होंने संघ को देश की शासन व्यवस्था में दखल नहीं देने दिया ।उनसे पहले की सरकारें जिस संविधान के अनुरूप काम करती आई थीं , उन्हों ने उसी कार्यशैली को अपनाया ।इसी लिये उन्होंने पाँच साल देश को सुशासन दिया ।राजनैतिक कारणों से सामान्य विरोध हुआ पर उनकी आलोचना आज भी नहीं की जाती है ।अटल जी के समय संघ “बार बार उकसहिं अकुलाहीं ” वाली स्थिति में तिलमिलाता रह गया पर सिर नहीं उठा पाया ।इस बार वह पूरी तैयारी से राजनीति के अखाड़े में कूदा है ।सब जगह आर एस एस छाया हुआ है ।मोदी और उनका मंत्रिमडल, भा ज पा शासित राज्यों के मुख्य मत्री और अधिकांश राज्यपाल, अधिकांश उच्च सरकारी संस्थानों के शीर्ष पदाधिकारी , मीडिया के अधिकारी सब के सब खुले तौर पर आर एस एस के लोग हैं ।अब राष्ट्रपति के पद पर भी आर एस एस का कोई दबंग व्यक्ति प्रतिष्ठित होगा ।इसी लिये मोदी सुशासन चलाने से ज्यादा आर एस एस का जाल फैलाने में रुचि ले रहे हैं ।जैसे भी जीतें लेकिन चुनाव पर चुनाव जीतने में रुचि ले रहे हैं ।एक बार फ़ासीवादी व्यवस्था के पैर मजबूती से जम जायें तो लोग यह पूछने की हिम्मत ही नहीं करेंगे कि गरीबी और बेरोजगारी क्यों बढ़ रही है ? किसान क्यों मर रहे हैं ? टैक्स क्यों बढ़ रहे हैं ? आतंकवाद और नक्सलवाद पर काबू क्यों नहीं पाया जा रहा है ? एक के बदले दस सिर क्यों नहीं आये ? मोदी खामोश हैं और खामोशी से अपना काम कर रहे हैं ।वह किसी सवाल का जवाब वक्त आने पर ही देंगे ।” हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है ? “Neelima Singh

    Reply
  9. सिकंदर हयात

    Krishna Kant
    23 hrs ·
    ट्रोल बनने के बाद आदमी आदमी नहीं रह जाता, एक फेफनाया हुआ, फेचकुर फेंकता हुआ जंतु हो जाता है जो मनुष्य की शक्ल में पैदा हुआ था। ट्रोल थोड़ा डूड टाइप होता है। एमबीए या इंजीनिरिंग किया होता है। बेंगलोर, दिल्ली, चेन्नई जैसे बड़े शहर में रहता है। ट्रोल गालियां खाता है, गालियां पीता है, गालियां ओढ़ता है, गालियां बिछाता है, गालियों में सोता है, गालियों में जागता है। ट्रोल गालियों में ऐसा सीझ जाता है, जैसे चाशनी में रसगुल्ला सीझता है। जैसे ज़हरबुझा तीर होता था, वैसे गालीबुझा मनुष्य ट्रोल कहलाता है।
    कल एक ट्रोलिया कहीं से प्रकट हुआ। दोस्त नहीं है। एक एक पोस्ट पढ़ पढ़ के गालियां देने लगा। उसकी वाल पर गया। देखा बेंगलोर में रहता है। टेक्नोक्रेट टाइप था। सोचा इसके हृदय में धधक रही ज्वाला का क्या समाधान है। तब तक वो 4 और पोस्ट पर गालियां दे चुका था। अंततः उसे ब्लॉक लोक पहुंचा के फुर्सत ली।
    आपने गौर किया हो तो गालियां देने वालों में एमबीए और इंजीनियर टाइप लोग ज़्यादा होते हैं। हमने अपने बच्चों को किस तरह पढ़ाया है? इंजीनियर बन चुका युवक गालियां देता फिर रहा है। कहने को पढ़ा भी है, नौकरी भी करता है। फिर भी फ्रस्ट्रेटेड घूम रहा है।
    सरकार को एक ट्रोल साइको अध्ययन केंद्र बनाना चाहिए। जिनको ट्रोल के रूप में चुनाव में इस्तेमाल किया गया होगा, आजकल खलिहर हैं। उन बेचारों की मानसिक हालत का अध्ययन होना चाहिए।
    वह कौन सी मानसिक स्थिति होती होगी कि एक युवक भारत माता का नारा लगाते हुए तमाम स्त्रियों को रंडी कहता फिरता है। उसकी मानसिक हालत को वहां तक लाने की ज़रूरत है जहां आकर वह सोच सके कि रंडी भी मनुष्य है, वह भी किसी की माँ है और सम्मान की हकदार है, जिसे बीच बाजार खड़ा कर दिया गया है। मेरी लिस्ट में कोई मनोवैज्ञानिक हो तो ट्रोल ब्रिगेड पर उसे अध्ययन शुरू करना चाहिए।Krishna KantMukesh Tyagi
    8 hrs ·
    ‘बनाना रिपब्लिक’ सुनकर मतलब पता न चला हो तो,
    ‘काऊ रिपब्लिक’ के निम्न वर्णन से भी समझ सकते हैं; दोनों मिलते-जुलते ही हैं|
    लखनऊ चारबाग स्टेशन पर एक मालगाड़ी के आगे गाय आ गई| ड्राइवर बेचारा सीटी बजाता रहा पर गौमाता न हिलीं| डर के मारे कुछ कर भी न सकता था|
    घंटा भर लाइन जाम!
    पीछे बरेली एक्स और फरक्का एक्सप्रेस दो गाड़ियां भी रुक गईं| इंतजार के बाद यात्री पटरी पर ही उतरकर पैदल प्लेटफार्म पहुँचे|
    स्टेशन मास्टर ने शिकायत तक भी न लिखी, गौमाता के डर से!Mukesh Tyagi
    15 hrs ·
    सिर्फ सत्य, सत्य के सिवा और कुछ नहीं!
    मोदी जी ने हरयाणा में ‘बेटी बचाओ’ शुरू किया; 2 साल में ऐसा चमत्कार कर डाला कि जहाँ 2011 की जनगणना में हरयाणा में लिंग अनुपात 834 (पूरे देश में यह 919 था) होता था वहीं दिसम्बर 2016 में यह बढ़कर 935 और मार्च 2017 आते तो 950 हो गया|
    पर ख़बर ज़्यादा ही अच्छी हो तो शक करना चाहिये!
    अब पता चला कि ये संघी हिसाब-क़िताब के नतीजे थे अर्थात फ़र्जी! कितना बढ़ाया गया था इसके लिए कुछ जिलों का आँकड़ा समझना काफ़ी है – पानीपत असल 872 से बढाकर 1007, नारनौल 841 से 968, झज्जर 845 से 949! बाक़ी जिले भी इसी तरह|
    अब अर्थव्यवस्था की वृद्धि का अनुमान आप खुद लगा लें; वैसे कल औद्योगिक उत्पादन भी हिसाब का फार्मूला बदलकर कल 0.7% से तुरंत 5% पर जा पहुँचा!
    पर नोटबंदी के बाद पुराने नोट कितने जमा हुए इस पर कल सरकार ने कहा उसकी गिनती अब भी चल ही रही है! शायद कुछ और पुराने नोट अभी खपाने हैं!Mukesh Tyagi
    12 May at 13:06 ·
    दिल्ली मेट्रो के छाँटे हुये पँच थे, तो फैसला तो अम्बानी के पक्ष में ही होना था! अब मेट्रो को रिलायंस इन्फ्रा को ब्याज समेत 4725 करोड रू देना है। इसलिये भाडा तो बढाना ही था। धंधा भी अच्छा है, बगैर मेट्रो चलाये ही खूब मुनाफा कमाया अम्बानी ने।
    इसको कहा जाता है पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप। घाटा पब्लिक का, मुनाफा प्राइवेट!Mukesh Tyagi
    12 May at 10:07 ·
    चांदनी नाम है उसका। कल ही उसकी 3 वर्ष की बेटी, 5 वर्ष का बेटा और 30 वर्षीय पति ट्रेन से गिर कर मर गए। बदहवासी में वो उन्हें देखने ट्रेन से कूदने लगी, लेकिन लोगों ने पकड़ लिया। पटना से करीब 80-90 किमी दूर एक छोटे स्टेशन के पास हुआ यह हादसा कोई ट्रेन दुर्घटना नहीं थी। यह भीड़ के कारण बोगी के दरवाजे के पास बच्चों के साथ जैसे-तैसे खड़े होकर यात्रा करने की विवशता का नतीजा था।
    रेलवे अपनी कहानी गढ़ेगा। मरने वालों को ही दोष देगा। खबर आई-गई हो जाएगी।
    लेकिन, यह भारत की विकास प्रक्रिया का अमानवीय नतीजा है। सबसे तेजी से विकास करने वाला देश, जो दुनिया की चुनिंदा आर्थिक महाशक्तियों में शामिल हो चुका हो, अपने सामान्य नागरिकों के लिये परिवहन की ऐसी व्यवस्था विकसित नहीं कर सका, कि आदमी आदमी की तरह सफर कर सके।
    नहीं, कोई उम्मीद नहीं रखिये। आगे भी कुछ नहीं होने वाला है और स्थिति बदतर ही होने वाली है। विकास की नवउदारवादी अवधारणा में इस देश के 70 प्रतिशत गरीबों के लिये कोई चिंतन ही नहीं है।
    सत्ता में आते ही मोदी जी ने बुलेट ट्रेन का सपना उछाल दिया। न्यूज चैनल जापान, कनाडा आदि देशों की बुलेट ट्रेनों पर स्टोरी करते हमें सपनों की दुनिया मे ले जाने लगे कि ऐसा ही अब भारत में भी होगा…कि ‘विकास पुरुष’ आ गया, अब तो देश छलांगे लगाएगा।
    चाय बेचने, अगर वे बेचते थे तो, के क्रम में उन्होंने बचपन मे ही ट्रेन में आम लोगों की फजीहतों को देखा होगा। प्रधानमंत्री बनने पर उन्हें पैसेंजर ट्रेनों की संख्या बढ़ाने का नारा देना था, उन्होंने बुलेट ट्रेन का नारा दिया।
    बुलेट ट्रेन से विरोध नहीं, लेकिन इस पर सवाल उठने ही चाहिये कि संसाधनों के इस्तेमाल की नीति आम आदमी विरोधी क्यों है। हजारों करोड़ रुपये जो भारतीय रेलवे को ‘इलीट लुक’ देने पर खर्च किये जा रहे हैं, सुरेश प्रभु जो रेलवे को ‘विश्वस्तरीय’ बनाने की बातें कर रहे हैं, उनमें आम आदमी कहाँ है?
    इलीट हितों के लिये संसाधनों के मनमाने इस्तेमाल की प्रवृत्ति सत्ता के सिर चढ़ कर बोल रही है। विरोध के स्वर कुंठित हैं। लेकिन, कुंठाओं का भी विस्फोट तो हो ही सकता है। यह विस्फोट नहीं हो, इसके लिये पक्ष के साथ विपक्ष भी सन्नद्ध है।
    अंधेरे बढ़ते जा रहे हैं। यह व्यवस्था आम जन की विरोधी ही नही, अब तो शत्रु बनती जा रही है। धर्म, जाति, संस्कृति, गाय, तलाक आदि मुद्दों पर विभाजित आम जन संसाधनों की इस डकैती पर ध्यान कैसे दें?
    By Hemant Kumar JhaDinesh Choudhary
    18 hrs · Jabalpur ·
    मूर्ख इसी लायक होते हैं कि उन्हें मूर्ख बनाया जाए। उनसे कोई सहानुभूति रखना भी एक किस्म की मूर्खता है क्योंकि वे अपनी मूर्खता को तमगे की तरह लादे फिरते हैं और इसके गौरव तले प्रफुल्लित महसूस करते हैं। ऐसे गौरव को बोझ बताना कुछ वैसा ही है, जैसे परसाई जी कहते थे कि सूअर अगर मैला खाकर ही परमआनन्द का अनुभव करता है तो उसे फल खाने की सलाह देकर उसका मजा किरकिरा नहीं करना चाहिए। सुना है कि जस्टिन बीबर नाम का गवैया, जो अपना सोफ़ा-पलंग भी साथ लेकर चलता है, 35 से 70 हजार रुपयों की टिकिट के बदले 4 गाने लाइव सुनाकर भाग गया । बाकी गानों में होंठ हिलाता रहा। ये विदेशी हम हिन्दुस्तानियों को ऐसे ही मूर्ख बनाते हैं, इसीलिए बाबा स्वदेशी के मन्त्र का जाप करते हैं। चौथाई दाम से भी कम की टिकिट पर शुद्ध, स्वदेशी, 100 प्रतिशत आयुर्वेदिक, देशप्रेमी गायक अभिजीत 4 दिनों तक लाइव गा सकते थे। देश का पैसा देश में रहता और बेचारे गरीब पूँजीपतियों के काम आता। कुछ नहीं तो इतने पैसों से कलात्मक केलेंडर छापने वाले कलाप्रेमी विजय माल्या का ऋणांश तो चुकाया ही जा सकता था।
    मजाक की बात नहीं है। कला कोई उपभोक्ता वस्तु या कमोडिटी तो है नहीं कि पैसे दिए और आनन्द वसूल लिया। अपने जमाने में 60 पैसे की थर्ड क्लास की टिकिट में भी सिनेमा में उतना ही आनन्द आता था, जितना 5 रूपये की बालकनी की टिकिट में। कुछ रईसजादे बॉक्स में भी जाते थे पर पर सबसे सामने वाली सीट का मजा उन बेचारों को क्या पता? आनन्द अनुभूति, आत्मा, एहसास, रुचि, ‘टेस्ट’ वगैरह की चीज है और 35 या 70 हजार रुपयों में नहीं खरीदी जा सकती। यह कन्ज्यूमर फोरम के दायरे में भी नहीं आता कि मरदूद बीबर पर केस ठोंक दिया जाए कि पैसे तो खूब ऐंठ लिए पर मजा कौड़ी का नहीं आया। भाई लोगो, वैसे भी आप लोग इस गरीब मुल्क के लायक नहीं हो। गाना-फाना, आर्ट-कल्चर वगैरह तो फ़ालतू के चोचले हैं। असल चीज स्टेट्स सिम्बल है जो 35 से 70 हजार रुपए में आता है। अब मजा नहीं आया बोलकर अपनी ही भद्द मत उड़ाओ। कहो कि लिप-सिंकिंग हाई क्लास चीज थी, मूर्खो और जाहिलों के समझ में नहीं आई!

    Reply
  10. सिकंदर हयात

    Krishna Kant
    14 May at 21:10 ·
    (रीपोस्ट: पोस्ट की सेटिंग गड़बड़ थी. जिन्होंने न पढ़ा हो उनके लिए फिर से)
    #मीडिया_डायरी
    आप यक़ीन नहीं करेंगे, लेकिन यह सच है कि आप एक ख़तरनाक दौर में हैं, जहां विश्वसनीयता का संकट सबसे बड़ा संकट है.
    आइए बताते हैं कैसे.
    सेना के अधिकारी लेफ़्टिनेंट उमर फ़याज़ की शहादत हुई. इसके बाद सोशल मीडिया पर अफ़वाह उड़ी कि शहीद अधिकारी के जनाज़े पर पत्थरबाज़ी हुई. इसके बाद कथित मुख्यधारा का मीडिया भी चिल्ला उठा, एलास, शॉकिंग, ग़ज़ब हो गया. शहीद के जनाज़े पर पत्थरबाज़ों ने पत्थरबाज़ी की. India Today, CNN-News18, DNA, Zee News and InUth जैसे चैनलों ने यह ख़बर चलाई कि शहीद के शव पर पत्थरबाज़ी की गई.
    कई पत्रकार, लेखक, नागरिक, ट्रोलिए सब बेहाल हो गए. कुछ ने ‘देशद्रोहियों’ को गालियां दीं. कुछ ने इसके लिए वामपंथियों को कोसा. कुछ ने कश्मीरियों को बद्दुआ दी. जाकी रही भावना जैसी, उसने वह किया.
    हमारे पास न्यूज़रूम में जो फ़ोटो थी, उसमें स्थानीय कश्मीरी लोग जनाज़े को कंधा दे रहे थे. लेफ़्टिनेंट उमर फ़याज़ भी कश्मीरी ही थे. मैं कन्फ़्यूज़ हो गया. स्पष्ट सूचना नहीं मिली.
    बाद में पता चला वह अफ़वाह थी. घटनास्थल पर एनडीटीवी के रिपोर्टर नाज़िर मसूद थे. उन्होंने ट्वीट किया, ‘Reports of stone throwing at the body of Lt Umar Fayaz are baseless. I was there in Kulgam. Spoke to people, there is sense of loss&disbelief.’
    मसूद ने न्यूज़ लॉन्ड्री से कहा, ‘तथ्य यह है कि ग्राउंड पर मैं अकेला रिपोर्टर था. वहां कोई दूसरा रिपोर्टर नहीं था. बाक़ी सब रिपोर्ट करने और विजुअल जुटाने में व्यस्त थे.’ इसके बावजूद, जिन मीडिया संस्थानों ने ग़लत रिपोर्ट चलाई थी, वह नहीं हटाया.
    दूसरी एक और समस्या है कि कोई एक घटना घटती है, तुरंत मीडिया, सोशल मीडिया में उसके तमाम वर्जन आ जाते हैं. आप किस बात पर भरोसा करेंगे, यह तय कर पाना मुश्किल हो जाता है. मोटा मोटा कहें तो इस प्रवृत्ति में कन्हैया प्रकरण के बाद तेज़ी आई है. आप मीडिया से सूचनाएं लेते हैं, तुरंत उसपर प्रतिक्रिया देते हैं. क्या आपके साथ सही हो रहा है?
    कुछ लोगों ने मुझसे भी कहा कि उमर फ़याज़ के जनाज़े पर पत्थरबाज़ी पर क्यों नहीं लिखा? उन्होंने हमसे यह नहीं पूछा कि आप पत्रकार हैं, आपके पास क्या सूचना है? क्या यह सही है? नहीं. वे मुतमईन थे क्योंकि वह सूचना उन्हें मीडिया से मिली. मैं न्यूज़रूम में बैठा हुआ रोज़ इस तरह की झूठी ख़बरों से दो चार होता हूं. क्या आप यह बात जानते हैं कि आपको झूठी ख़बरें परोसी जा रही हैं?
    सोच रहा हूं कि अब आगे से रोज़ की झूठी ख़बरों के प्रसारण की डायरी लिखूंगा.

    Reply
  11. prasad joshi

    OMG sorry OMM (Oh my man),god avoided.

    ईतनी intolerance, ईतना गुस्सा.

    कृष्णकांत जी mount everest चढनेका सपना देखना आसान होता है पर ऊसे वास्तविकता मे चढना जानलेवा होता है.
    आप तो खुद अपने भावनाओ को काबु नही कर पा रहे हो तो आप कैसे ये expect करते हो की समाज के लोग ऊनकी भावनाओ को काबु करे.
    आपने मनही मन मे ये तै किया है कि सिर्फ आपके विचार ही सर्वोत्तम है. जो आप चाहते हो अगर वैसाही ईस दुनीया मे होगा तोही ये दुनीया सुंदर है.
    जिवन का वास्तविक ग्यान ये ऐसे विचार करनेसे नही मिलता है. हर जिवको ऊसकि अच्छाई और बुराई के साथ स्विकार करना सिखो. ये ईस लिये कि या तो आप किसी जिवको खाकर जिंदा रहते हो या फिर किसी जिवका खाना खुद बन जाते हो.
    Self declared intelectuals like you आपसे जादा ग्यान तो जानवरो को है क्युं पता है because animals never complains. मानवद्वारा निर्मित हर दवाइया वो खुद अपने शरीरमे ही तैयार करलेते है. ऊन्हे किसी अस्पतालकी जरुरत नही पडती है.
    समाजकी बुराईया ऊनपर छोडदो, जिसके मन मे जहर है वो खुद जलरहा है और आप ऊन लोगोके प्रती खुदके मनमे जहर पैदा कररहो.
    मै ईसीलिये मानता हु कि मानवतावाद mount everest चढनेका सपना देखने वालोकी विचांरधारा है. जो खुदको अच्छा और समाज को बुरा कहने मे अपना जिवन व्यतीत करते है.

    पहेला पत्थर ऊसेही मारना चाहीये जिसने कोई पाप ना किया हो…….
    कृष्णकांतजी..हम सब एक जैसे ही है..कुछ अपने बुरे कर्मो को भी याद करो..मन शांत होगा,अपने आपही…..

    एक प्रकृतीवादी,
    प्रसाद…. (जोशी)

    The nature do maintains her balance and she controls all of us.

    Reply
  12. prasad joshi

    कृष्णकांतजी,
    किनारेपर बैठकर किसीको तैरना नही सिखाया जा सकता है. ऊसके लिये पाणी मे गोता लगाना पडता है.

    खुदका पेट भरने के बाद नेकी सुझती है पर ऊसी पापी पेट की भुख किसी जिव या वनस्पती को खाकर मिटती है. हमारी हर सास किसी कि मौतपर चलती है. हम कैसे खुदको अच्छाई के ठेकेदार समज सकते है.
    अब आप ये कहैंगे कि ये तो प्रकृती का नियम है. तो महाशय मै यही कहरहा हु ये नियम ही हमे यह समझाते है कि we are just the surviver in race of life. पता नही ये जिवन मृत्युकी दौड मे ये अच्छाई बुराई कहासे आगइ.
    हम ईन्सान तरक्की कर रहे है. हमारे पास विग्यान की कई सुविधाए है. ऐसा आपको लगता है पर ये भि जिवनकी ईसी दौड का नतीजा है. मै एक engineer हु मै अगर खराब मशीन बनाताहु तो वो बिकेगी नही ये सोच मुझे quality and invention कि और ले जाती है. Its not the brain and its evolution, it is hunger that let me invent new machines and technology.
    बदकिस्मतीसे जिंदा रहने की ईस दौड को ईन्साने विकास और ऊन्नती कहा है.
    कृष्णकांतजी जरा ईस नजर से देखो दुनीया को यहा हर कोई ईस दौड का हिस्सा है. Being equieped with machineries is tempeory provision this may not rule the natures law.यहा हिदु, मुसलमान, ब्राह्मण, दलित,अमेरिकन,अरब, ईन्सान, जानवर, संत, आतंकवादी सब भाग रहे है.
    Huminity is post business activity, and the business is the prime and dominent need of mankind. The very businesses is the real picture of the nature.

    Reply
  13. prasad joshi

    चलो मै आपको आज खुष करता हु. मै आपकि खुषी के लिये आने वाले चुनाव मे केजरीवाल या कॉंग्रेस या किसी भी secular पार्टी को वोट करुंगा. मोदी को नही करुं गा. क्युंकी मोदी हो या केजरीवाल या कॉंग्रेस या ओवेसी या खुद कृष्णकांत या औरंगजेब या अकबर या ब्रिटीष या संघ. अब ईन मे से कोई ना तो बारीश बनकर बरसने वाला है और नाही अनाज बनकर किसीकि भुख मिटाने वाला है और नाही तेल बनकर गाडी चलाने वाला है. ये सब कौन है, कोई नही है.
    और क्या यार आपने तो हद करदी मोदीजी क़ा खाना पीना तक calculate किया.
    नही यार जैसे हर धर्म मे कट्टर पंथी होते है वैसे आप मानवता वाद और secularism के कट्टरपंथी हो. अरे आने वाले समय मे दुनीया तेल या पाणी के लिये लडेगी शायद हवा के लिये भि
    लडेगी.
    मानलो ईस दुनीया मे सारे लोग कृष्णकांत होगये. तब भि ये सारे कृष्णकांत तेल, पाणी और हवा के लिये आपस मे लडने वाले है.
    नही महाशय ये नही है, ये हिंदु, मुसलमान, ये धर्म ये जाती या ये कुछ भि है ही नही. पर आप जैसे ग्यानी जनो को कौन समझाएगा. जैसे राजनेता वैसे ही आप लोग. किसीका हिंदुत्व तो कोई ईस्लामीक तो कोई सेक्युलर तो कोई communist. पर वो सब दिन मे रात होते ही दिन भर के करप्शन कि हिस्सो का बटवारा शुरु. और फिर दुसरे दिन की प्लँनींग.

    Get the rest from all of such void thoughts. You are thinking in that direction which tends to big illusion.

    ग्यान और भ्रम ईन दोनो मे एक गहरा संबध है और वो ये है कि ग्यान हमेशा भ्रम को जन्म देता है और भ्रम हमेशा ग्यान को. ये ऐसा ईसलिये है कि पुर्ण ग्यान कभिभी हो नही सकता है. ग्यान के मामले मे हम हमेषा अधुरे ही रहते है.

    Reply
  14. prasad joshi

    विश्वकी कुछ गंभीर समस्याओ को समझो ये कम नही होगी..
    (१) Fertility of land reducing day by day.
    (२) Entropy of earth increasing.
    (३) Polar glaciers are melting.
    (४). Yet Oil has no alternative.
    (५). Non recyclable scrap.
    (६). Ocean sweetness rising.
    (७). Nuclear weapons
    (८). Forest cutting.
    (९). Resource consumption increasing.
    (१०) WATAR …
    संघी हिंदुत्व कि बाते करते है, ओवेसी ईस्लाम की, गांधीजी अहिंसा कि, बगदादी शरीयतकी, कश्मिरी आझादी कि, कृष्णकांत मानवतावाद कि, अन्सारीजी इस्लाम के नेकदिली कि

    एक चमन जो ऊजडने वाला है,
    ऊस चमनमे हर कोइ अपने खयालो की खेती
    यु ईस कदर कर रहा है के
    ऊसका ये आशीयाना मानो हमेशा आबाद रहेगा.

    Reply
  15. prasad joshi

    बचपन मे एक कहानी सुनीथी,
    आकाश गिरने के..
    एक खरगोश कि पिठ पर एक पत्ता गिरता है. डर के मारे वो भागने लगता है, बहोत चिल्लाता है, सभि प्राणीयोको भागने को कहता है. सब ऊसे पुछते है क्या हुवा? क्यु भाग रहे हो? तो वो खरगोश कहता है मेरे पिठ पर ‘आकाश गिरा’ , भागो हम सब मरने वाले है. कुछ प्राणी ऊस पर हसते है.. और कुछ ऊसके साथ भागने लगते है,… भागो आकाश गिरा..

    कृष्णकांत जी,
    भारत मे आप जैसे लोगो के पिठ पर ‘मोदी’ नाम का पत्ता गिरा है और आप लोग ऐसा बवाल मचा रहे हो मानो आकाश गिरगया. मानो मोदी कोई त्सुनामी लेकर आने वाला है और हम सब डुब जायेंगे. या फिर मानलो मोदी कि जगा केजरीवाल, ममता pm होगये तो पुरा देश विकास कि गंगा मे गोते लगानेवाला है. मेरे लिये मोदी, ममता, केजरीवाल,सोनीया ये सब एक जैसे ही है. ना मै किसी को अच्छा कहता हु और ना मै किसी के बुरा कहता हु. हर किसीको सत्ता चाहीये. मै तो अोवेसी के भि खिलाफ नही हु. अगर ओवेसी pm बनते है तब भी कुछ बुरा नही होगा. ओर कृष्णकांत pm बनते है तो भि कुछ बहोत अच्छा नही होगा. ये इस लिये क्युंकी अच्छाइ बुराई सुख दुख आते जाते रहते है.ये मनमोहन के काल मे भी थे ओर मोदी के काल मे भी है.
    पर ईस दुनीया मे आप जैसे खरगोश है जो पत्ते के गिरने से आकाश गिरगया ऐसा डर लोगो मे फैलाते है. आप क्या संघीयो कोस रहे है आप भि ऊनके जैसे ही हो. ईस देश का माहोल खराब करने के लिये, ईस देश मे intolerance बढाने के लिये मै आप जैसे intellectuals को ही दोशी मानता हु.

    आप जैसे लोगो को intellectual क्युं कहते है ये मेरी आज तक समझमे नही आया है.

    Reply
  16. सिकंदर हयात

    Sanjay Tiwari
    2 June at 15:33 ·
    यह जो सुन्नती जन्नती पाकिस्तान है उसने दीनी मामलात में खूब तरक्की है। काफिर हिन्दुओं को कैसे खत्म कर देना है इसके एक से एक नायाब नुख्से विकसित किये गये हैं लेकिन खुद बीमार हो गये तो इलाज कैसे करेंगे इसका नुख्सा विकसित नहीं कर पाये। इसलिए जब किसी को कोई गंभीर बीमारी होती है और वह ठीक भी होना चाहता है तो उसे काफिरों की जमीन हिन्दुस्तान याद आती है।
    लेकिन खुद ही हालात इतने खराब कर रखे हैं कि आना जाना इतना आसान नहीं रहा। पहले धड़ल्ले से आते थे, इलाज कराते थे और जाकर उसी भीड़ का हिस्सा हो जाते थे जो हिन्दुस्तान में गजवा ए हिन्द करने पर आमादा है। लेकिन अभी सुषमा स्वराज ने एक पेंच फंसा दिया है। मेडिकल वीजा मिल तो जायेगा लेकिन वहां के विदेश मंत्री की अनुशंसा लेनी पड़ेगी। ठीक भी है। कम से विदेश मंत्री को अपने देश की औकात तो पता रहनी चाहिए कि जिन काफिरों को खत्म करने के मंसूबे पाले बैठे हैं उन काफिरों के बिना इलाज भी नहीं करा सकते।
    ऐसे में आज जिस बच्चे के दिल के आपरेशन के लिए चार महीने का मेडिकल वीजा दिया गया है उससे साबित होता है कि मानवता किस तरफ कमजोर हुई है और कहां अभी भी पूरी तरह से मजबूत बनी हुई है। बच्चे के पिता ने “मानवता के जीत” की दुहाई दी है, उम्मीद करनी चाहिए कि जन्नती जमात मानवता शब्द का महत्व समझेगी और पैगाम-ए-मोहब्बत का भी।Sanjay Tiwari
    2 June at 14:03 ·
    हिन्दू लोग बहुत धार्मिक कट्टर हो जाएंगे तो क्या करेंगे? नदी साफ करेंगे। पेड़ पौधा लगायेंगे। पशुओं की सेवा करेंगे। चिड़ियों कौवों को दाना चुगायेंगे। चीटीं को आंटा खिलायेंगे। कीर्तन भजन और भण्डारा करेंगे। राह चलते लोंगों को पकड़ पकड़ के भोजन करायेंगे। पानी पिलायेंगे। मंदिर और धर्मशाला बनावेयेंगे। राहगीरों के लिए प्याऊ खुलवायेंगे। अस्तित्व में जो कुछ है उसकी भलाई के लिए काम करना है। यही हिन्दू धर्म है और यही भारत की ब्राह्मण संस्कृति।
    यह सब करना आपको अपनी आजादी में दखल लगता है तो समस्या आपके साथ है। क्योंकि हिन्दुओं के लिए धरम का काम यही सब है। उन्हें न किसी पर ईमान लादना है और न अपना गंवाना है।Sanjay Tiwari
    1 June at 13:32 ·
    जिस दिन पाकिस्तान में हिन्दू और मसीही उसी आजादी से चर्चा, संवाद या बहस कर सकेंगे जिस आजादी से भारत में मुसलमान करते हैं, उस दिन इस्लाम से मेरा सारा संदेह खत्म हो जाएगा।Sanjay Tiwari
    31 May at 10:43 ·
    न खाऊंगा, न काफिरों को खाने दूंगा
    (अलीगढ़ मुस्लिम युनिवर्सिटी में रोजा) ।Sanjay Tiwari ————————————— mohd Umar added 2 new photos — with Wasim Akram Tyagi and 15 others.
    6 hrs ·
    चीन से कुछ दिनों से खबर आ रही थी कि मुसलमानों को रोज़े रखने पर चायना ने पांबदी लगा दी-
    इससे पहले भी चायना इस्लाम के खिलाफ ऐसी नापाक हरक़त कर चुका है और वह सिलसिला इस बार भी जारी रहा-
    आज के इस आधुनिक युग मे चीन की इस हरकत पर मुझको रूस का 1973 का वह कम्युनिस्ट राज याद आ गया जब उनके पूरे देश मे लाल ध्वज लहरा रहा था।
    साथ ही मुसलमानों पर रूस मे नमाज़, कुरान पढ़ने पर पूर्णतः पाबंदी थी, उस समय लगभग पाँच सात मस्जिदें ही रही होंगी रूस मे जिसको भी बंद करवा दिया गया था बस एक दो मस्जिदें ही पुरातत्व विभाग ने अपने लिए खोल रखी थी, कुलमिलाकर ना कोई अज़ान देने वाला और ना कोई कुरान और ना नमाज़ पढ़ने और पढ़ाने वाला लेकिन हौसला देखिए अल्लाह से मोहब्बत करने वाले उन रूसी मुस्लिमस का जो इतनी सख्त बंदिशों के बाद भी उन्होंने इस्लाम को पूरी मुस्तैदी से पकड़े रखा, मस्जिदें बंद कर दी गयी कुरान पढ़ने पर पांबदी, रोज़े पर पांबदी लेकिन वहा फिर भी इस्लाम ज़िंदाबाद रहा और जिस इस्लाम को मिटाने की सोच रखकर रूस ने बंदिशें लगायी थी मुसलमानों पर वह इतनी सख्ती के बाद भी इस्लाम को छुका ना सका।
    वक्त बदला समय ने अपनी रफ्तार बढ़ायी और फिर धीरे धीरे उसी रूस मे आज पाँच हज़ार से ज़्यादा मस्जिदें आबाद है, और धीरे यही इस्लाम पूरे यूरोप मे सबसे तेज़ी से फैलने वाला मज़हब है आज जबकि मौजूदा समय मे पूरी दुनिया मे इस्लाम के खिलाफ साजिशें ज़ोरों पर है।
    कल तक जो देश इस्लाम पे बंदिशे तय कर रहा था उसी रूस की हुकूमत ने मास्को मे यूरोप की सबसे बड़ी मस्जिद तामीर करवाई, साथ ही बड़ी तेज़ी से रूसी नौजवान और औरतों का इस्लाम मे दाखिल होने का सिलसिला चल रहा है और एक समय ऐसा आयेगा की अरब देशों की मुस्लिमस आबादी से ज़्यादा यूरोप मे मुस्लिमस हो जायेंगे।
    इसी तरह जो सख्तियां और पांबदी आज चायना मे है इस्लाम के खिलाफ उससे कही ज़्यादा बंदिशें 90 के दशक मे रूस ने लगा रखी थी इसलिए यह समय चायना के मुस्लिमस का इम्तिहान का दौर है अल्लाह का दामन पकड़कर ईमान पर मुस्तैदी से टिके रहने का है और एक दिन जो चायना रोज़े पर सख्ती से पैरवी कर रहा है वहीं चायना एक दिन रूस की तरह ईमान पर क़ाबिज़ होगा “इंशा अल्लाह”-(मोहम्मद उमर)

    Reply

Add Comment