पिछले दिनों जब इमरान प्रतापगढ़ी ( व्यक्ति विशेष नहीं ) टाइप मानसिकताओं- सोच पर ये लेख सामने आया http://khabarkikhabar.com/ archives/3272 तो इमरान के सबसे बड़े फैन कहने और कहलाये जाने वाले एक चरित्र ने लिखा की Mohd Zahid8 April at 22:31 · Lucknow · Short Post/17-258इमरान फैन्स क्लब :-आपको एक सच बात बताता हूँफेसबुक पर इमरान प्रतापगढ़ी के फैन इतने क्यूट हैं कि आप सोच भी नहीं सकते , सच्चे , मासूम , चाहने वाले।आपको शायद पता हो कि इमरान के तमाम “फैन क्लब” के नाम से फेसबुक ग्रुप और पेज हैं , फैन्स आफ इमरान प्रतापगढ़ी , जबरा फैन्स आफ इमरान प्रतापगढ़ी इत्यादि इत्यादि , कम से कम 10 ग्रुप में तो मुझे सबने ऐड किया है।यकीन मानिए कि एक एक ग्रुप में 50000 से 75000 फैन्स ऐड हैं , ग्रुप का नियम है कि सिर्फ इमरान से रिलेटेड ही पोस्ट होगी। एक ग्रुप में 70 हजार लोग हैं मैने उस ग्रुप के ऐडमिन से कहा कि मेरा पेज प्रमोट कर दो , तो बोला कि रूल्स है पेज का कि सिर्फ इमरान भाई से रिलेटेड पोस्ट होगी। मैंने कहा “आई लाइक इट” मुझे समयबद्ध और सिस्टमेटिक लोग बहुत पसंद हैं।इतने संस्कारी हैं कि इमरान की खुन्नस में लोग लाख आलोचना करें ये किसी से बत्तीमीज़ी नहीं करते , बस इमरान की डीपी लगा कर चुपचाप विरोध करते हैं।तमाम मुझसे इनबाक्स में कहते हैं “ज़ाहिद भाई इम्मू भाई के साथ गलत हो रहा है” हम क्या करें ? मैं कहता हूँ तुम्हारे इम्मू भाई जब इनकी परवाह नहीं करते तो आप क्युँ करते हो ? आप भी खामोश रहो।यह उदाहरण है आइडी रिपोर्ट करने वालों के लिए कि ” इमरान फैन्स क्लब” के सारे ग्रुप मिलाकर लाखों फैन्स किसी को फेसबुक पर रहने ही ना दें , किसी आईडी को चलने ना दें। पर नहीं , यह संस्कार है कि चुप रहते हैं।रिपोर्ट करने वालों ? संस्कार नाम की कोई चीज़ है कि नहीं आप में ? नहीं तो इन बच्चों से सीखो।सैल्यूट टू आल इमरान फैन्स क्लब मेम्बर्स ” ————————— ये बात बिलकुल ही सटीक हे की इनकी की -आज उदारवादी लिबरल लेफ्ट आदि हम लोग कुछ भी भी बकते रहे हमें न कोई सुनने वाला हे सुने भी तो पूछने वाला कोई नहीं हे मोदी उदय के साथ ही मौज़ ही मौज़ हे आज इन सभी तरह के सभी तरह के सभी आकार प्रकार भार के राइटिस्टों की . सही तो कहा सबसे बड़े फैन ने की छोटे इक़बाल कोई परवाह नहीं करते हे परवाह करने की चिंतित होने की आज इन लोगो को – इन मानसिकताओं को कोई जरुरत ही नहीं हे आज ये सभी सभी सड़ी गली सोच के छोटे बड़े , गली से लेकर इंटरनेशनल खिलाडी ही तो देश के दुलारे दामाद बन चुके हे कोई शक————- ? हम बकते रहे मगर विरोध से उल्टा इन्हे और प्रचार मिलता हे और इनके सपोटर और भी कॉन्क्रीट होते जा रहे हे हालात ही ऐसे हे आज .

जैसे जैसे देश में पिछले पंद्रह सालो में मोदी नाम के ग्रहण का उदय होता गया वो पार्टी महसचिव से पी एम् तक पहुंचे तो हुआ ये भी की खेर मोदी जी तो पी एम् पद पा ही गए हे नीचे भी हर कोई चतुर राइटिस्ट आज कुछ ना कुछ पा ही रहा हे खोना कुछ भी नहीं हे इन सभी की सोच और काम में विचार में मौजा ही मौजा हे साथ ही इसमें इसमें न कोई मेहनत लगती हे न ज़ेहमत न कोई दिमाग लगाना पड़ता हे न कोई अध्ययन चाहिए न कोई जीवन के अनुभव , न इन्हे कोई खतरा हे बस पाना ही पाना हे आज तो इन सभी ने .जैसे छोटे इक़बाल मुसलमानो के बीच हमेशा से मौजूद सड़ी गली सोच को ही शायरी का रूप देकर मुस्लिम विक्टिमहुड सेलिंग कर कर के , एक भी कायदे की या नयी सोच या समाधान की बात किये बिना ही एक किस्म के लीजेंड बन गए यादवराज के चाहते बन गए खूब पैसा और नाम दाम पिट रहे और कोई डर नहीं किसी का डर नहीं मस्त हे वास्तव में आज शरीफ लोगो नॉन राइटिस्टों लेखकों विचारको को छोड़कर कायदे की बात करने वाले लोगो को छोड़कर कोई चाहे कुछ भी कहे कुछ करे विवाद हो तो बहुत ही बढ़िया न हो तो भी चुपचाप काम चलता रहता हे यानि इन तरह तरह के दक्षिणपन्थियो की मोदी उदय में मौज़ ही मौज़ हे पुरे देश पर छा रहे इस दक्षिणपंथी इंद्रधनुष का हर एक रंग आज इस देश में फायदे में ही हे कोई पी एम् बन चूका हे तो कोई मुस्लिम ह्रदय सम्राट कोई धर्म रक्षा गौ रक्षा में में पैसा पीट रहा हे और कुछ नहीं तो तो लाइक शेयर पाकर ही मस्त हे किसी को कोई डर नहीं हे अब तो ये सभी धीरे धीरे पर्दा हटा भी रहे हे खुल कर अपना अपना ज़हरीला फेस दिखा भी रहे हे सबको पता हे की अब तो आख़िरकार नुकसान तो कुछ नहीं होगा घुमा फिराकर कुछ न कुछ फायदा ही होना हे . छोटे तकबाल ही नहीं इनके सबसे बड़े फेंन तक ये दावा करते हे की तीन तीन पार्टियों के नेताओ ने इनसे प्रचार के लिए गुहार की आख़िरकार इन्होने आज़म राग खूब छेड़ा और हम उदारवादियों को गली का कुत्ता तक नहीं पूछता हे एक भी कायदे की बात किये बिना ही इन्हे तीन तीन पार्टियों के नेता नोटिस ले रहे हे इनके अच्छे दिन .

अब ऐसे लेखो से शायर इम्मू भाई को भला क्या फर्क पड़ेगा उन्हें तो बस ये कहना हे की सारी दुनिया में मुसलमानो पे जुल्म हो रहा हे में उनकी आवाज़ उठाता हु लाखो रूपये पाता हु लाखो फैन हे तो ये मेरे से जलते हे इससे उन्हें और सिम्पेथी मिलेगी और भीड़ और मोटा पैसा मिलेगा . तो ये तो वो बात करेंगे जिसमे सरदर्दी कुछ नहीं हे बस फायदा ही फायदा हे मुसलमानो की जो अपनी गलतिया हे गलत लोग हे उनके खिलाफ ये एक लफ्ज़ नहीं बोलेंगे बस मज़े ही मज़े हे फर्क इन पर भला क्या पड़ेगा ———– ? शरीफ लोग जब इनके खिलाफ लिखेंगे तो इन्हे भला शरीफ लोगो से क्या डर कौन हमला करने वाला हे———– ? कौन कोई नुकसान पहुंचाने वाला हे!

मुसलमानो में ये लोग ( व्यक्ति विशेष नहीं ) बेहद चतुर हे ही , ये गैर मुस्लिमो के बीच बैठ कर कानून की इंसाफ की सविधान की गंगा जमुनी तहज़ीब की बात भी करते हे और शुद्ध मुस्लिम महफ़िल में इन लोगो की टोन अलग ही भड़काऊ होती हे मुस्लिम कटटरपंथ पर ये एक शब्द नहीं बोलते हे . .ये ही क्यों हर दक्षिणपंथी आज फायदे में हे एक संघी न्यूज़ चेनेल का मालिक गिरफ्तार हो गया हे कोर्ट में माँ बाप का हवाला देकर छूट गया इस पर अपनी कर्मचारी के साथ रेप का आरोप हे ऑफिस में इसके बैडरूम अटैच बताया जाता हे ( एक बड़े मुस्लिम धर्माधिकारी के भाई भी रेप के आरोप में ) अब होना तो यही हे की ये फ़ौरन और भी अधिक लोकप्रियता और टी आर पि हासिल कर लेगा कहेगा की देखो में हिन्दुओ की खातिर गिरफ्तार हो गया भाजपा से लोकसभा विधान सभा विधानपरिषद आदि का टिकट हासिल कर लेगा एक भाजपा की पत्रिका का संपादक———– कुमार झा कई सालो से रोज हद से ज़्यादा भड़काऊ बाते इसी आस में करता रहता हे की कुछ कार्यवाही हो विरोध हो ट्रेंड हो हंगामा हो और उसका भी कैरियर चमक जाए .मेरठ का एक छुटभ्या हिन्दू संघटन का पदाधिकारी तो एक जोड़े के बेडरूम तक में घुस गया और चेनेल पर आकर भी एकदम पागलो जैसी बाते कर रहा था एंकर ने उसे धक्के मारकर निकाला आप को क्या लगता हे कुछ नुकसान कुछ फर्क पड़ गया होगा उसे भी , नहीं बल्कि लोकल दक्षिणपंथी गुंडों समर्थको में अब वो और भी बड़ा हीरो बन गया होगा कोई शक ———- ? शायद अपनी हरकतों से अपने ही रिश्तेदारों से सर पर हथोड़ा खा कर अपनी अच्छी भली साइट बंद करवा चूका पत्रकार————-अब रोज अपने सोशल मिडिया पेज पर सड़कछाप कम्युनल बाते करता हे ताकि किसी भी तरह से दक्षिणपथियो की विशाल फौज उसे भी लाइक करे – छी न्यूज़ और उसके पत्रकारों ने दक्षिणपंथी बायस्ड पत्रकारिता के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हालत ये हो गयी हे की एकसेकन्ड भी छी न्यूज़ देख लो तो उलटी सी आने लगती हे लेकिन इतनी गंद मचाकर भी इनका क्या नुकसान हुआ हे फायदा ही हुआ हे . इस सबकी राह दिखाई किसने इस सबका कोई जिम्मेदार हे तो वो हे मोदी जी उन्होंने ही गुजरात दंगो के बाद ये परंपरा शुरू की थी की अधिक से अधिक भड़काऊ ज़हरीली बाते करे अधिक से अधिक , इससे आपके सपोटर चाहे वो ज़्यादा हो या कम हो का उनका आपके पक्ष में कॉन्क्रीट धुर्वीकरण सीमेंटीकरण होगा जो फायदा करवाएंगे उदारवादियों को चीखने दो भोकने दो कही नहीं कोई उदारवादी आपको नुकसान पंहुचा देगा ——– ? जैसे जैसे मोदी जी का उदय हुआ तो वो तो बढे ही साथ ही साथ इस बड़े और———– बरगद के नीचे अनगिनत ज़हरीली खरपतवार तेजी फल फूल रही हे जब सय्या भये कोतवाल तो डर कैसा , ये सभी खरपतवार कल को बरगद बनने का सपना संजोय हे ज़ाहिद साहब सही कहते हे कुछ भी लिखो विरोध करो इम्मू भाई को कोई फर्क नहीं पड़ता हे आख़िरकार आज होगा तो फायदा ही होगा इन सभी दक्षिणपंथियों का ,