baba-togadia

शांति और योग की बात करने वाला बाबा आज लाखो सर काटने की धमकी दे रहा हे इस बाबा ने पहले मोदी सरकार लाने में बेहद भागदौड़ की थी अब इस बाबा का लक्ष्य मोदी सरकार की घोर विफलताओं पर से ध्यान हटवाना हे इस ध्यान हटवाने में और भी लोग सक्रीय हे और आने वाले समय में इनकी सक्रियता और बढ़ेगी और आम तौर पर इनके निशाने पर मुसलमान ही होंगे इसलिए सभी भारतीय मुसलमानो से अपील हे की आने वाले दो तीन सालो में बेहद सयम बरते और जहां जो गलत हो उसे गलत कहे कोई किन्तु परन्तु न करे ये बेहद जरुरी हो गया हे पिछले दिनों जिस वीभत्स अंदाज़ में दिल्ली में डॉक्टर नारंग की रोडरेज में गुंडों दुआरा हत्या को जिसकी जितनी भी निंदा की जाए कम होगी मगर जिस उत्साह के साथ साम्प्रदायिक ताकतों ने इसे कम्युनल रूप दिया जिस तरह से एक केंद्रीय मंत्री ने आगरा में हुई एक हत्या पर खुले आम भड़काऊ बेहद भड़काऊ बयानबाज़ी की जिस तरह से झारखण्ड में दो पशु व्यापारियों की हत्या हुई उससे साफ़ हे की हिन्दू कटट्रपन्तियो ने अच्छी तरह से समझ लिया हे की उनकी प्रिय मोदी सरकार की अगले चुनाव में वापसी केवल साम्प्रदायिकता से ही संभव हे दो ही सालो में मोदी सरकार की विफलता पूरी तरह से ज़ाहिर हो गयी हे टैक्स बढ़ने से व्यापारी गुस्से में हे तो उधर तेल के दाम कम होने पर भी महगाई में कोई कमी न होने से आम जनता हताश और दुखी हे विदेशो से काला धन लाने का ख्वाब दिखने वाली सरकार देश में ही लूट रहे और बेंको का खरबो रुपया गायब कर चुके लोगो तक के खिलाफ भी कोई सख्ती नहीं कर सकी हे यु पि चुनाव को देखते हुए इस सरकार ने जाटो को हरियाणा हिंसा की खुली छूट दी और अब बजाय दोषियों पर सख्त कार्यवाही के ये सरकार उन्हें आरक्षण देने की जल्दबाज़ी कर रही हे न देने पर बड़े आराम से धमकियां भी सुन रही हे की आगे इससे भी बड़ा आंदोलन किया जाएगा सवाल ये हे की यही सब करना था तो पहले ही क्यों नहीं किया ? एक स्टेट को और एक बड़े इलाके को क्यों कभी न भरने वाले घाव देने दिया गया यानि इस सरकार ने पुरे देश को ये सन्देश देकर की वो हिंसा के आगे झुकती हे आगे और अराजकता के बीज बो दिए हे !

इस सरकार को हटाने के लिए बेहद जरुरी हे की मुसलमान बेहद सयम बरते और जहां जो गलत हो उसे गलत कहे मुस्लिम कटट्रपन्तियो का बचाव या उन्हें अपना प्रवक्ता न बनने दे किसी भी भड़काऊ हिन्दू कटट्रपन्तियो की गतिविधि पर कोई मुस्लिम परतकिर्या ज़ाहिर ही नहीं होने देनी चाहिए आज़म खानों के रोज के उलजुलूल बयानों की देवबंद के भारत माता की जय के विरुद्ध फतवे की कोई आवशयकता नहीं थी इससे जो भी होगा आख़िरकार भाजपा को फायदा ही होगा सामने से चाहे जितनी हिन्दू कटटरपंथियों की गतिविधियाँ हो उसकी मुस्लिम प्रतिक्रिया नहीं होने देनी चाहिए जो भी हो सेकुलर संघटनो और सेकुलर लोगो के माध्यम से ही होना चाहिए हिन्दू कटट्रपन्तियो की रणनीति ही यही लग रही हे की ऐसी बाते की जाए जिनके जवाब में मुस्लिम कटट्रपन्ति या ऐसे मुस्लिम नाम आगे आये जिन्हे हिन्दू समाज पसंद नहीं करता हे इनको देख देख कर को हिन्दू कटट्रपन्तियो का आधार और मज़बूत होगा इसलिए हर हाल में इनका विरोध मुसलमानो को सेकुलर लोगो और संघटनो के माध्यम से ही देना चाहिए मुसलमानो को ये भी सुनिश्चित करना चाहिए की किसी हालत में भी आगे देश में कोई दंगे न हो किसी हालत में भी कोई मुजफरनगर न दोहराया जाये जिसका भाजपा को बेहिसाब लाभ मिला था सुब्र्मण्यम स्वामी जैसे लोग जल्द ही राम मंदिर निर्माण की बात कर रहे हे ये शायद अगले चुनाव के लिए ही कोई चाल हो सकती हे खेर अगर ऐसे होता ही हे हिन्दू कटरपंथी संगठन कोई बड़ी से बड़ी कार्यवाही करते भी हे तो भी मुसलमानो को शांत ही बने रहना होगा और अपनी लड़ाई सिर्फ कोर्ट में ही लड़नी चाहिए ये भी आम मुस्लिम याद रखे की मुस्लिम नेता भी उसे भड़कने की कोशिश कर सकते हे क्योकि साम्प्रदायिकता में ही सभी का हित हे तो भारत के मुसलमानो को याद रखना होगा की अगर उन्होंने ज़रा भी संयम खोया तो तय होगा की अगली केंद्र सरकार भी संघ परिवार की ही बनेगी .