muslim-kids-computer

महाराष्ट्र सरकार उन मदरसों को स्कूल के दायरे से बाहर करेगी जिसमें केवल इस्लामिक शिक्षा दी जाती है , स्कूल से बाहर करने का अर्थ यह है कि उनको मिल रही सरकारी सुविधाएं अथवा फंड बंद हो जाएगी तो मेरे जैसे व्यक्ति को कोई आपत्ति नहीं होगी क्योंकि इसी सुविधाओं और धन की लालच में बे वजह के और बे जरूरत के मदरसे खोले जा रहे हैं , जहाँ जरूरत नहीं वहाँ भी 10-15 कदम पर एक मदरसा अवश्य है , मदरसों में धन की बंदरबांट इतनी अधिक है कि टूटी साईकिल पर चलने वाला मौलाना कुछ दिन में ही मदरसा बनाकर लक्जरी कार से चलने लगता है । मैं तो महाराष्ट्र सरकार के इस कदम का स्वागत करूंगा क्योंकि केवल धार्मिक शिक्षा के लिए सरकारें धन दे यह उचित नहीं है चाहे किसी भी धर्म के धार्मिक शिक्षा के लिए हो यह खुद के इमान और विश्वास के उपर है खुद की जिम्मेदारी है कि अपना हलाल धन खर्च कर के दिनी या धार्मिक शिक्षा अपने बच्चों को कराई जाए ।

महाराष्ट्र सरकार के इस कदम की सराहना होनी चाहिए , परन्तु यह भी इमानदारी से हो कि सरकार किसी भी धर्म के धार्मिक शिक्षा या कार्यक्रम का ना तो आयोजन करे ना कोई धार्मिक कार्य करे । धर्म तो व्यक्तिगत विषय है इसका सरकारों से क्या लेना देना , परन्तु हाँ किसी के लिए हाँ किसी और के लिए ना जैसा पक्षपाती रवैया नहीं होना चाहिए ।

मदरसों में यह सही है कि धार्मिक शिक्षा दी जाती है परन्तु कुछ मदरसों में उच्च शिक्षा तक दी जा रही है तथा कितने तो तमाम बोर्ड से मान्यता प्राप्त हैं जहाँ 12 तक के हर विषय की शिक्षा दी जा रही है कुछ तो स्नातक परास्नातक तक की शिक्षा दे रहे हैं , यह भी सही है कि अनुपात में ऐसे मदरसे बहुत कम हैं और अनुपात में बहुत अधिक मदरसों की संख्या का कारण धार्मिक शिक्षा की बजाय धन की लालसा अधिक है जो तथाकथित कुछ मौलानाओं के लिए धंधा बन गया है ।

यहाँ तक तो महाराष्ट्र सरकार की बात से पुर्णतः सहमति है परन्तु इस निर्णय के बचाव में जो तर्क दिये जा रहे हैं वह गले के नीचे नहीं उतर रहा है , सीधे से दो लाईन का बयान उपयुक्त होता कि सरकार का काम धार्मिक शिक्षा दिलाना नहीं है जिसे लेना है अपने खर्च से ले या अपने खर्च से मदरसा या कोई और संस्थान चलाए , निश्चित ही मैं इस निर्णय का बहुत बड़ा प्रशंसक होता ।परंतु सरकार का तर्क है कि उन मदरसों में जहाँ केवल धार्मिक शिक्षा दी जाती है इस निर्णय से वहाँ भी मेनस्ट्रीम की शिक्षा दी जाएगी और इस तरह धन की लालच में सारे मदरसों में आधुनिक तकनीक की शिक्षा दी जाएगी और मदरसों से इंटर या हाईस्कूल का प्रमाणपत्र लेकर निकले युवकों को नौकरी मिलने में आसानी होगी जो कि केवल धार्मिक शिक्षा के कारण नहीं मिलती , मुझे इसमे लोचा लगता है ।

सुनने में अच्छा लगता है कि भारतीय जनता पार्टी को मुसलमानों के नौकरी रोजी रोटी की इतनी चिन्ता है परन्तु हे भाई जो करोड़ों मुसलमान आधुनिक शिक्षा की डिग्री लेकर दर दर घूम रहे हैं पहले उन्हे तो नौकरी दे दो , बाद में मदरसों में नौकरी लायक शिक्षा दिलवाना।पहले उन मुसलमानों को नौकरी दिलवा दो जिनको यह पत्र थमा दिया जाता है कि मुसलमानों के लिए नौकरी नहीं है , इसलिए आप स्कूल मानो या ना मानो यह ढोंग बंद करो , यह एक चाल मात्र है मदरसों को नियंत्रित करके अपनी मनमानी थोपने की।

डाक्टर राजेन्द्र प्रसाद देश के प्रथम राष्ट्रपति थे, कोलकाता में अपने विश्वविघालय की कक्षा में प्रवेश करने लगे तो अध्यापक ने उनको रोका कि नाम क्या है ? डाक्टर राजेन्द्र प्रसाद ने अपना नाम बताया और यह कहा कि मैने ही इस विश्वविघालय में टाप किया है , अध्यापक हैरानी से बोलते हैं कि टाप करने वाला बच्चा तो मदरसे से पढ़ा हुआ है ।डाक्टर साहब कहते हैं कि जी बिलकुल आपने सही कहा वो मैं ही हूँ ।तब मदरसों की यह स्थिति थी आज पैसे के कमाने के अड्डे बना दिये गये हैं ।