Modi

प्रस्तुति – अनवर शमीम ( संपादक – कसौटी जदीद )

प्रधानमंत्री ने आज दिल्ली में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा के मेरा नसीब आप लोगों के काम आए इससे बड़ा सौभाग्य मेरे लिए और कुछ नहीं हाे सकता है। उनका कहना था कि यदि उनके नसीब से पेट्रोल और डीजल के दाम कम हुए तो इसमें क्या गलत है. उन्हों ने कहा के आप को नसीब या बदनसीब प्रधानमंत्री चाहिए – इस खबर के बाद फेसबुक पर पोस्ट की भरमार शुरू हो गई . कुछ लोगो के पोस्ट आप सब के लिए पेश है और आप फैसला करे के मोदी खुशनसीब है या बदनसीब प्रधानमंत्री .

प्रधानमंत्री ने आज चुनावी सभा में कहा की उनके नसीब से पेट्रोल सस्ता हुआ है। उन्होंने आगे कहा की दिल्ली वालो को नसीब वाला चाहिए या बदनसीब। वाह मोदी जी वाह यदि ये बात है तो आपके शपथ लेते ही ट्रैन एक्सीडेंट हुआ उस एक्सीडेंट में ५० से ज्यादा लोग मारे गए और इन ८ माह में रेल दुर्घटना में अब तक ३०० से ज्यादा लोग मारे गए है। आपके नसीब से ३९ भारतीय अभी तक वापस नहीं आये है इराक से। आपके नसीब से सीमा पर १५० से ज्यादा जवान शहीद हो चुके है। आपके नसीब से चीन ३० किलोमीटर भारतीय सीमा में घूस आया। आपके नसीब से देश में धार्मिक विभाजन पर एक के बाद एक साम्प्रदायिक बयान आये है। आपके नसीब से ईमानदार अफसर संजीव चतुर्वेदी को एम्स से बाहर कर दिया। आपके नसीब से जम्मू कश्मीर में अभी तक की भयानक बाढ़ आई जिसमे सेकड़ो लोग मारे गए और हज़ारो लोग हताहत हुए है। आपके इतने अच्छे नसीब से महाराष्ट्र और गुजरात में इन ८ महीनो में २०० से ज्यादा किसान आत्महत्या कर चुके है। आपके नसीब से महंगाई बिलकुल भी कम नहीं हुई है। आपके नसीब से लाखो किसानो की फसले ज्यादा वर्षा और सूखे से बर्बाद हुई है। आपका नसीब इतना शानदार है की पुरे देश में बलत्कार की १०००० से ज्यादा लडकिया / महिलाये शिकार हो चुकी है। क्या क्या गिनाउ साहेब आपके नसीब के बारे में। यदि आप इतने नसीब वाले है तो उन बदनसीबों का क्या जो आपके आठ महीनो के कार्यकाल में दुखी परेशान हुए है। इसकी जिम्मेदारी भी आपको लेना पड़ेगी यदि पेट्रोल सस्ता जो की इंटरनेशनल कारणों से हुआ है और चुनावी क्रेडिट आप लेना चाहते है। आज गोपीनाथ मुंडे का परिवार क्या सोच रहा होगा की ये मोदी जी का नसीब था जो मंत्री पद की शपथ लेते ही सड़क दुर्घटना हो गयी। मुंडे परिवार से पूछिये की आप उनके लिए नसीब वाले रहे है या बदनसीब प्रधानमंत्री. (उमेश दिवेदी की वाल से )

नसीब बनाम बदनसीब? … पहले अंधविश्वास, फिर अवैज्ञानिक नजरिया और अब भाग्यवाद भी? … वाह, क्या रहनुमाई है!( ( ओम थानवी )

इस देश में एक औरत है जो है तो ज़िंदा लेकिन उसके अस्तित्व को नकारना कई लोगों के लिए ज़रूरी है। खासतौर पर इस देश के पत्रकारों और उन लोगों के लिए ऐसा करना ज़रूरी है जिन्हें सरकार से सीधे लेना-देना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नसीब भले ही कितना अच्छा हो मगर उनकी पत्नी जसोदाबेन का नसीब उन जैसा नहीं है। बकौल मोदी जी उनके नसीब से डीज़ल के दाम गिर गए पर इसी खुशनसीबी का फायदा जसोदाबेन को नहीं मिल सका। जसोदाबेन ने एक आरटीआई के जरिए यह जानना चाहा था कि उन्हें प्रशासन की ओर से जो सुरक्षा मुहैया कराई जा रही है वो किस हैसियत से दी जा रही है.. क्या प्रधानमंत्री की पत्नी होने के नाते वो इस सुरक्षा की हकदार हैं या किसी अन्य रूप में.. अगर पीएम की पत्नी होने की वजह से उन्हें सुरक्षा दी जा रही है तो फिर वो ऐसी और किन-किन सुविधाओं की हकदार हैं? प्रशासन ने जब 25 नवंबर 2014 को उन्हें जवाब देने से इनकार कर दिया तो जसोदा बेन ने इसके खिलाफ अपील दायर की।( आधी रात का खब्त की वाल से )

मोदी के नसीब से इस मुल्क में अंबानी-अडाणी पल रहे हैं तो स्मृति-अमित शाह जैसे घाघ लोगों की भी चांदी है। वैसे तेल के दाम गिरने के पीछे आपकी खुशनसीबी नहीं साहेब.. यूरोप और तेल उत्पादक देशों के बीच का समीकरण है.. मगर ठीक है.. चुनावी भाषणों में ही लफ्फाज़ी नहीं होगी तो कब होगी..( आधी रात का खब्त की वाल से )

नसीब वाली बात सुनकर तो लग रहा है कि अब नेताओं की कुंडली देखकर वोट देने पड़ेंगे। वैसे मानव संसाधन विकास मंत्री भी एक दिन हाथ फैलाकर अपना नसीब दिखाती मिली थीं। उसकी तस्वीर भी वायरल हो गई थी। भक्त लोग खामख्वाह ही नाराज़ होते थे जब हम कहते थे कि भई ये काम-वाम नहीं करता..सब इसके नसीब का खेल है!!( आधी रात का खब्त की वाल से )

साहेब कह रहे हैं मेरे भाग्य से कच्चे तेल की कीमतें गिरी हैं . मैं भाग्यवान हूँ इसलिए मुझे वोट दो . साहेब जी , कच्चे तेल के भाव क्या सिर्फ भारत के लिए गिरे हैं , बाक़ी दुनिया के लिए नहीं? किसका बेवकूफ बना रहे हो !कच्चे तेल के अंतर्राष्ट्रीय बाजार की कुछ नालेज है आपको या नहीं ? या ऎसी ही बकैती किए जा रहे हैं .
वैसे भी तेल की गिरी हुई कीमतों का क्या फ़ायदा पहुँचाया है आपने जनता को जो आपको वोट दिया जाए ?(मीनू जैन की वाल से )

साहेब जी जनता को नसीब वाला PM नहीं चाहिए
ऐसा PM चाहिए जिससे जनता का नसीब अच्छा हो.
देश को भाग्य भरोसे ही चलाना है तो फ़िर चुनाव करवाने की जरूरत ही नही |कुंडली सबसे अच्छी हो उसे ही प्रधान सेवक और मुख्यमंत्री बना दिया जाए|
मोदी जी की बेरोजगारी, मंहगाई, कालाध, भ्रष्टाचार, लव जेहाद, घर वापसी पर खामोशी के बावजूद अगर देश चल रहा है तो ये भगवान का आटोपायलटमोड है ।( अब्दुल खान )

क्या दो पैसे का प्रधानमंत्री है खुद को नसीब वाला बोल पेट्रोल दाम कम होने का श्रेय ले दिल्ली में वोट मांग रहे है। तो फिर जरूर कश्मीर आपदा के साथ ही देश के अन्य हिस्सों में हुए प्राकृतिक आपदा और देश में हुए हजारों दंगे भी इनके नसीब के कारण हुआ होगा!(विक्रम सिंह चौहान )